Special

अमेरिका और ईरान क्यों हैं एक दूसरे की जान के दुश्मन? जानिए 10 बड़ी वजह

अमेरिका/ईरान. यह बात 1953 की है, जब अमेरिकी गुप्तचर एजेंसी सीआइए (CIA) ने ब्रिटेन के साथ मिलकर तेल के खेल में ईरान के निर्वाचित प्रधानमंत्री मोहम्मद मोसादेक को अपदस्थ करा दिया था. बताया जाता है कि धर्मनिरपेक्ष छवी वाले प्रधानमंत्री मोसादेक तेल उद्योग का ईरान के हित में राष्ट्रीयकरण करना चाहते थे लेकिन अमेरिका को यह कतई मंजूर नहीं थी और यहीं से दोनों देशों के बीच दुश्मनी के बीज बोए गए. दुश्मनी के यह बीज भी ऐसे पड़े की अब तक दोनों देशों के बीच रिश्तों की मिठास के सभी प्रयास विफल ही नजर आए. डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल में रिश्ते और बुरे हो गए हैं. हाल में ईरान के सर्वोच्च नेता के बाद दूसरा स्थान रखने वाले कुद्स फोर्स के प्रमुख जनरल कासिम सुलेमानी को अमेरिका ने ड्रोन हमले में मौत के घाट उतार दिया. जिसका कहीं विरोध तो कहीं समर्थन हो रहा है, पर दोनों देशों के बीच तनाव अब परवान पर है अब अमेरिका के ...

अलविदा 'मिग-27', पढें दुनिया का इतिहास बने 'मिग-27' से जुड़े 10 बड़े फैक्ट

जोधपुर. कारगिल युद्ध के दौरान दुश्मनों के होश फाख्ता करने देने वाला, खतनाक 'बहादुर' मिग-27 अब पूरी तरह से भारतीय वायुसेना से विदा हो चुका है. मिग-27 की जोधपुर स्थित स्क्वाड्रन न सिर्फ दक्षिण पश्चिमी वायु कमान, बल्कि समूचे देश की मिग-27 की अंतिम स्क्वाड्रन थी. दुनिया में इतिहास बन चुका लडाकू विमान मिग-27. जानकारों के मुताबिक जोधपुर वायुसेना स्टेशन में मिग-27 की अंतिम स्क्वाड्रन की सेवानिवृत्ति के बाद, यह विमान न सिर्फ भारत (India), बल्कि पूरे विश्व में एक इतिहास बन गया है.   मिग-27 से जुड़े 10 बड़े फैक्ट: 1- मिग-27 को भारतीय वायु सेना के बेड़े में 1985 में शामिल किया गया था. 2- यह अत्यंत सक्षम लड़ाकू विमान ज़मीनी हमले की क्षमता का आधार रहा है. वायु सेना के सभी प्रमुख ऑपरेशन्स में भाग लेने के साथ मिग-27 ने 1999 के कारगिल युद्ध में भी एक अभूतपूर्व भूमिका निभाई थी. कार...

अशोक गहलोत के वो 10 मजबूत पक्ष जो बनाते हैं उन्हें राजस्थान का सबसे ताकतवर नेता

जयपुर (राजस्थान). अशोक गहलोत ना केवल राजस्थान के बल्कि देश के सबसे मजबूत नेताओं में शुमार हैं. वो मुख्यमंत्री के तौर पर अपने तीसरे कार्यकाल का पहला साल पूरा कर चुके हैं. कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई से राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने वाले गहलोत 1973 से 1979 तक राजस्थान एनएसयूआई के अध्यक्ष रहे. गहलोत 7वीं लोकसभा के लिए 1980 में पहली बार जोधपुर से कांग्रेस के टिकट पर जीतकर संसद पहुंचे. इसके बाद जोधपुर से ही 8वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं लोकसभा में चुनाव जीता. यह उनके लगातार शानदार प्रदर्शन का ही नतीजा था कि बतौर इनाम उन्हें केंद्रीय मंत्री बनाया गया. गहलोत को इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और पी.वी.नरसिम्हा राव के मंत्रिमंडल में सेवाएं देने का मौका मिला. इसके अलावा वह तीसरी बार राजस्थान के मुख्यमंत्री बने. अशोक गहलोत पांच बार सांसद रह चुके हैं और पांचवीं बार विधायक चुने गए हैं. वे केंद्र और राज...

भारत में कानून बना नागरिकता संशोधन विधेयक. 10 फैक्ट्स से समझें पूरे इतिहास और भावी चुनौतियों को

नई दिल्ली (सुभद्र पापड़ीवाल). देशभर में विरोध और समर्थन की राजनीतिक रस्म अदायगी के बीच नागरिकता संशोधन विधेयक कानून बन गया है. लोकसभा और राज्यसभा से पास होने के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी इसे मंजूरी दे दी. नागरिकता संशोधन बिल नागरिकता अधिनियम 1955 के प्रावधानों को बदलने के लिए पेश किया गया था. नागरिकता बिल में इस संशोधन से बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आए हिंदुओं के साथ ही सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाइयों के लिए बगैर वैध दस्तावेजों के भी भारतीय नागरिकता हासिल करने का रास्ता साफ हो अब साफ हो गया है. इसके अलावा भारत की नागरिकता हासिल करने के लिए देश में 11 साल निवास की बाध्यता घटाकर अब इसे 6 साल करने का प्रावधान हो गया है. बड़ी बात यह है कि ऐसे अवैध प्रवासी भारतीय नागरिकता के लिए सरकार के पास आवेदन कर सकेंगे, जिन्होंने 31 दिसंबर 2014 की निर्णायक तारीख तक भारत में प्रवेश...

कौन है सोनिया गांधी? 73 वें जन्मदिन पर 10 बड़ी बातों से समझें सोनिया के जीवन को.

नई दिल्ली (THE END NEWS). पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी की बहू और पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी की पत्नी सोनिया गांधी अपने जीवन के 73 साल पूरे कर चुकीं हैं. जीवन में कई उतार चढाव देखने और आलोचनाओं को सहने के बावजूद भारतीय राजनीति में खुद को स्थापित और साबित करने वाली सोनिया गांधी का जन्म 9 दिसम्बर 1946 को इटली के विसेन्जा से कुछ दूर एक छोटे से गांव लूसियाना में हुआ. भले ही कांग्रेस पिछले दो लोकसभा (2014 और 2019) चुनावों में राजनीतिक आपदा की शिकार हुई हो बावजूद इसके सोनिया गांधी आज भी दिन रात फिर से पार्टी को खड़ा करने के लिए उम्र के इस पड़ाव पर भी समर्पित हैं. लगातार विदेशी होने का मुद्दा भी उठता रहा लेकिन सियासत के यह वार उनके मजबूत इरादों के आगे कमजोर नजर आए. एक महिला होने के बावजूद जीवन में दुखों के कई पहाड़ों को अपने फौलादी इरादों से पिघलाकर फिर से खड़ा होना सोन...

यौन हिंसा भारत की ही नहीं दुनिया की समस्या, 10 (TEN) फैक्ट से समझें भयावह स्थिति को

लंदन/ नई दिल्ली. पिछले कुछ सालों के दौरान भारत में रेप की ऐसी घटनाएं भी हुईं जिससे पूरी दुनिया में भारत को शर्मिंदगी झेलनी पड़ी और बदनामी हुई. जम्‍मू-कश्‍मीर के कठुआ रेप केस के बाद तो अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) की तत्‍कालीन अध्‍यक्ष क्रिस्टिन लैगार्डे (Christine Lagarde) ने भारत सरकार को सीधे तौर पर दोषियों के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई करने को कहा. ऐसे कई और मामले हुए जब देश ऐसी घिनौनी हरकतों से शर्मसार हुआ लेकिन ऐसा नहीं है कि भारत ही रेप (बलात्कार) के मामलों में बदनाम हैं. अमेरिका, कनाडा, स्वीडन और ब्रिटेन जैसे विकसित देश में भी ऐसी घटनाएं कम नहीं, और तो और दक्षिण अफ्रिका, जिम्बाब्वे, ऑस्ट्रेलिया में स्थिति भारत से भी काफी बुरी है. यौन हिंसा भारत की ही नहीं दुनिया के कई देशों की समस्या है. THE END NEWS के  10 (TEN) फैक्ट्स से समझिए पूरी दुनिया में आखिर क...

9 घंटे बस सोने की जॉब, 1 लाख रुपये सैलरी, तुरंत करें आवेदन.

बेंगलुरु. यदि आप कोई ड्रिम जॉब सर्च कर रहे हो तो आपके जैसे मेहनती और इमानदार लोगों के लिए बेहतरीन मौका है, करना कुछ नहीं बस अपने ऑफिस टाइम पर सोना है, और आपको इसके लिए सैलेरी मिलेगी 1 लाख रुपए. जी हां यह कोई मजान नहीं बल्कि सच है. भारत में रातों रात कंपनी का एड चर्चा का विषय बन गया है. दरअसल बेंगलुरु स्थिति भारतीय कंपनी Wakefit ने यह घोषणा की है कि रोजाना 9 घंटे सोने की जॉब है जिसके बदले में कंपनी द्वारा कर्मचारी को एक लाख रुपये सैलरी दे रही है. यह कंपनी फिलहाल गद्दे बनाती है. अब आप सोच रहे होंगे नौकरी और सैलेरी तो ठीक है लेकिन आखिर सोने का वेतन क्यों दिया जा रहा है. तो आप को बता दें दरअसल ऑनलाइन फर्म वेकफिट (Wakefit) कंपनी सोने के लिए कुछ लोगों की काउंसलिंग कर रही है. लोगों के सोने के तरीकों को जानने के लिए उनके सोने के तरीके को ट्रैक किया जाएगा. इसके बाद एक्सपर्ट से सलाह भी दी जाएगी. ...

यह हैं भारत के टॉप-10 (TEN) मिलावटखोर राज्य, जहां जाएं तो कुछ भी खाने से पहले सावधान!

नई दिल्ली (विपुल शर्मा). मिलावटखोर निर्दयी हेवान होता है, उसको यह नहीं पता कि किसी न किसी रुप में वह खुद भी उपभोक्ता है. बावजूद इसके कोई दूध में सिंथेटिक क्रीम, यूरिया या डिटर्जेंट पाउडर, सरसों के तेल में आर्जीमोन, हल्दी में डाई के काम आने वाला पीला तो मिर्च में लाल रंग, चाय में चमडे या लौहे का बुरादा मिला रहा है तो कोई सिंथेटिक मावा और सिंथेटिक पनीर, प्लास्टिक के चावल, नकली सिंथेटिक केसर बाजार में बेच रहा है. जिससे हर वक्त इंसानी शरीर में हृदय संबन्धित रोग, कैंसर, अलसर, ब्रेन हैमरेज, आंखों की रोशनी चले जाना, बालों का झड़ना, समय से पहले बुढापा, लीवर खराब होना, कुष्ठ रोग जैसी बीमारियां पैदा हो रही हैं. लेड क्रोमेट, सॉफ्ट स्टोन पाउडर, टेलकम पाउडर, किटनाशक तक अपनी अंधी कमाई के लिए मिलाने से नहीं चूक रहा. मिठाइयां मीठा जहर बन चुकी हैं. यह लगातार मिलावटी खाद्य पदार्थों और असुरक्षित खानपान का...

नाले के गंदे पानी से बनाई बीयर, बाजार में आते ही 'आउट ऑफ स्टॉक'

स्टॉकहोम (स्वीडन). जरा सोचो जब आपको पता चले की जिस नाले के गंदे और बदबूदार पानी से आप कोसों दूर भागते हैं, उसी पानी से बनी हुई बीयर आपने गटकी है, तो आप पर क्या बीतेगी? आपको यह अपने जीवन का सबसे बड़ा अपराध लगने लगेगा, खुद को माफ नहीं कर पाओगे, खासकर उस दोस्त या दुकानदार को जिसने आपको ऐसी बीयर ऑफर की और बडे ही चाव से आपने उसको पिया. लेकिन घबराने की जरुरत नहीं है. असल जिंदगी में अब ऐसी ही बीयर बाजार में आ चुकी है. और इतनी पॉपुलर हुई है कि मार्केट में आते ही 'आउट ऑफ स्टॉक' भी हो गई. दरअसल इस बीयर को बनाने का मकसद दुनियाभर में पीने की पानी कमी को रोकने, जल संरक्षण को बढावा देने और उसके रिसाइकलिंग पर जोर देने के लिए यह तरीका खोजा गया. स्वीडन में नाले के गंदे पानी को रिसाइकल करके ऐसी ही बीयर तैयार की गई है. इस बीयर को दुनिया की मशहूर बीयर कंपनी कार्ल्सबर्ग, न्यू कार्नेगी ब्रुअरी और IVL...

कौन हैं राजघराने के गौरवी कुमारी और महाआर्यमन सिंधिया जिनके विवाह के चल रहे चर्चे?

मध्यप्रदेश/राजस्थान. देश के दो बड़े राजपरिवारों में जल्द एक नया संबंध बनने के चर्चे मीडिया में हैं. जयपुर के कच्छवाहा (कुशवाहा) और मध्यप्रदेश के सिंधिया परिवारजनों के बीच मिलन की खबरें हैं. जहां ज्योतिरादित्य सिंधिया के पुत्र महाआर्यमन सिंधिया और दीया कुमारी की बेटी गौरवी कुमारी के विवाह संबंध की बातें चल रही हैं. पूर्व महाराजा कर्ण सिंह को इस संबंध को कराने का सूत्रधार बताया जा रहा है. हालांकि यह पुष्ट खबर नहीं है लेकिन ऐसा होता है तो दो बडे सम्मानित सियासी और राजशाही परिवारों के मध्य एक नया रिश्ता कायम होगा. जानकार मानते हैं यदि यह रिश्ता होता है तो दोनों ही परिवारों के लिए इससे बड़ी खुशी और गर्व की बात हो नहीं सकती.   कौन हैं गौरवी कुमारी, 10 फैक्ट?    1- गौरवी जयपुर राजघराने की बेटी दीया कुमारी और नरेंद्र सिंह की बेटी हैं. वो न्यूयॉर्क में पढ़ाई कर रही हैं...