Special

राजस्थान में अफसरों और नेताओं में नहीं बैठ रही पटरी, पढें कौन से 8 SP और 6 कलेक्टर निशाने पर, और किसके साथ मारपीट की आई नौबत

जयपुर. राजस्थान में अफसरों और नेताओं के बीच की खींचतान जगजाहिर होती जा रही है. आलम यह है कि जनप्रतिधि चाहते हैं कि अफसर उनकी अनदेखी ना करें तो अफसर चाहते हैं उनको भी पूरा सम्मान मिले. अब इसी कशमकश में हालात ऐसे हो चले हैं कि राजस्थान के आठ एसपी और छह  कलेक्टर जनप्रतिनिधियों के निशाने पर आ गए हैं. नेशनल दुनिया की ​एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक यह सब इसलिए हो रहा है कि एक तरफ जहां जनप्रतिनिधियों को दरकिनार कर जिलों के कलेक्टर-एसपी अपनी मनमर्जियां कर रहे हैं तो कोई राजधानी तक अपनी पहुंच तो कोई अफसरी की धौंस में स्थानीय नेताओं को तवज्जो नहीं दे रहे. यह सब उस वक्त हो रहा है जब कोरोना संकटकाल में सबको मिलकर एकजुटता के साथ काम करना है, पर ऐसा होता नजर नहीं आ रहा. ऐसे में अब जनप्रतिनिधि खुलकर विरोध में सामने आ गए हैं. कहीं जन प्रतिनिधि उनके खिलाफ आवाज बुलंद कर रहे हैं तो कभी सोशल मीडिय...

क्यों कहा जा रहा है कत्लेआम मचाने वाली कोरोना की दूसरी लहर ​पर फिलहाल लगा ब्रेक? जानें 10 बड़े फैक्ट्स 

नई दिल्ली. भारत में पिछले कई दिनों से कत्लेआम बचा रही कोरोना की दूसरी लहर फिलहाल कमजोर पड़ती नजर आ रही है. अब जहां लगातार कोरोना संक्रमण के प्रतिदिन मिलने वाले नए मामले कम हो गए हैं वहीं दैनिक रिकवरी भी बढ गई है. इसके अलावा प्रतिदिन होने वाली मौतों का आंकड़ा भी कम हो गया है. अस्पतालों में जहां वेंटिलेटर, आईसीयू, आॅक्सीजन बेड उपलब्धता बहुत कम हो गई थी, वहीं अब यह उपलब्धता बढ गई है.   10 बडे फैक्ट 1. भारत में पिछले 24 घंटों में 1.20 लाख दैनिक नए मामले दर्ज हुए लगभग दो महीनों में सबसे कम हैं.  2. लगातार 9 दिनों से संक्रमण के दैनिक नए मामले 2 लाख से कम आ रहे हैं.  3. 15,55,248 सक्रिय मामलों के साथ लगातार 5 दिनों से सक्रिय मामले 20 लाख से कम बने हुए हैं.  4. और तो और लगातार 23 दिनों से दैनिक नए मामलों की तुलना में दैनिक रिकवरी अधिक रही है.  5. महामारी...

World no tobacco day: भारतीय युवाओं में तंबाकू की वजह से बढ़ रहे सात तरह के कैंसर

दिल्ली/जयपुर (सचिन शर्मा). 31st May को हर साल World no tobacco day मनाया जाता है। तंबाकू के नशे की गिरफ्त में बढ़ती भारतीय युवाओं की संख्या का दुखद पहलू यह है कि इससे सात तरह के कैंसर बढ़ रहे हैं। 'केसेज ग्लोबल बर्डन ऑफ डीजीज कोलेबोरेशन में हाल ही में विश्व विख्यात लेन्सेट जर्नल में तीन शोध प्रकाशित किये हैं जिनके अनुसार 15 से 24 वर्ष की उम्र के तंबाकू के सेवन करने वालों की संख्या में पूरे विश्व में दुर्भाग्य से भारत दूसरे नंबर पर है। यह संख्या 2 करोड़ है। 1990 के बाद 2019 तके युवा लड़कों में सर्वाधिक भारत में देखी गई। वर्ष 2019 में हदयघात से 17 लाख, फेफडों की बिमारी से 16 लाख व तंबाकू जनित कैंसर से 10 लाख लोग मृत्यु का शिकार हुए।'यह कहना है भगवन महावीर कैंसर हॉस्पिटल एन्ड रिसर्च सेंटर की कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ निधि पाटनी का । डॉ निधि ने बताया की बदलती जीवनशैली और वातावर...

क्यों माना जा रहा है कि कुछ भी हो इंडस्ट्रियल ऑक्सीजन ही है ब्लैक फंगस का बड़ा कारण. क्या सच में बड़े स्तर पर हुई लापरवाही?

दिल्ली(सचिन शर्मा)। कहीं इंडस्ट्रियल ऑक्सीजन तो नहीं ब्लैक फंगस का कारण? या मनचाहे तरीके से किसी भी सिलेंडर में ऑक्सीजन भरकर उसे मरीज तक पहुंचाना रहा ब्लैक फंगस का एक बड़ा कारण? यह इस वक्त देश में सबसे बड़ा सवाल बना हुआ है कि आखिर जहां पहली कोरोना लहर में ब्लैक फंगस के कोई मामले सामने नहीं आए थे, वहीं अचानक दूसरे वेव में इसने महामारी का रूप कैसे ले लिया?   जानकार इसलिए भी इसके पीछे एक तर्क देते हैं कि पहली लहर में चूंकि ऑक्सीजन की कमी नहीं थी और इंडस्ट्रियल ऑक्सीजन का इस्तेमाल नहीं किया गया था इस लिहाज से ब्लैक फंगस के मामले भी सामने नहीं आए और दूसरी लहर में किल्लत के बीच इसका जमकर इस्तेमाल हुआ। जिससे मामले सामने आए। देश में यह सवाल प्रमुखता से उठाया जा रहा है कि कोरोना संक्रमण के बाद एक नई महामारी ब्लैक फंगस जिसे म्यूकोरमायकोसिस भी कहा जाता है के अचानक फैलने की वजह आखिर क्या है...

जहां दो वक्त की रोटी का संकट था, वहां कोरोना से बदली आदिवासियों की किस्मत. डाबर, हिमालया जैसी कंपनियों से मिला 1.57 करोड़ का ऑर्डर

ठाने(आलोक शर्मा). यह कहानी महाराष्ट्र के ठाने की है. जहां शाहपुरा गांव के आदिवासियों के लिए कुछ वक्त तक दो वक्त की रोटी का जुगाड़ सही से कर पाना भी किसी बड़े सपने से कम नहीं था. लेकिन अब गांव अचानक करोड़​पति बन गया है. कोरोना संकटकाल जहां हर किसी के लिए अभिशाप बना हुआ है वहीं इस पूरे गांव के आदिवासियों ने इस अभिशाप को अवसर में बदल दिया.  दरअसल कोरोना संकटकाल में औषधिय पौधे गिलोय की मांग बढ़ी और लोगों को इसके चमत्कारी गुण पता चले तो गांव ने अपने क्षेत्र में पैदा होने वाली गिलोय की खेती का बेहतर प्रबंधन किया, जिसका नतीजा यह  रहा कि यहां के जनजातीय लोगों को 1 करोड़ 57 लाख रूपए की गिलोय का बम्पर ऑर्डर मिला, ऑर्डर भी किसी छोटे मोटे ब्रांड का नहीं बल्कि डाबर, वैद्यनाथ और हिमालया जैसी बड़ी कंपनियां का. इतना ही नहीं अब गांव वालों को इससे भी बड़ा ऑर्डर जल्द और मिलने वाला है.&nb...

कोरोना के खिलाफ DRDO की भारतीय संजीवनी '2DG' दवा कल होगी लॉन्च . जानें क्यों कारगर है यह दवा

दिल्ली। कोरोना के खिलाफ जंग में भारत ने एक मजबूत संजीवनी तैयार कर ली है। शरीर में पहुंचकर नुकसान पहुंचाने वाले कोरोना वायरस का मुकाबला करने के लिए डीआरडीओ (रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन) के सहयोगी संस्थान आइएनएमएस (इंस्टीट्यूट आफ न्यूक्लियर मेडिसीन एंड एलाइड साइंसेज) के वैज्ञानिकों द्वारा तैयार 2डीजी (2 डीआक्सी-डी ग्लूकोज) 17 मई की सुबह लांच की जाएगी। माना जा रहा है इस दवा के प्रयोग से कोरोना संक्रमित मरीज तेजी से ठीक होता है। और यह कोरोना के खिलाफ जंग में एक बड़ी गेम चेंजर भारत के लिए साबित होगी। इस दवा के इस्तेमाल से कोरोना मरीजों की ऑक्सजीन पर निर्भरता काफी कम हो जाती है। बस इसे पानी में घोल कर लेना होता है। ​​​​​​ दवा को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) की लैब इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड अलाइड साइंस (INMAS) ने हैदराबाद के डॉ. रेड्डी लेबोरेटरी के साथ मिलकर तैयार कि...

भारत में रहने वाला यह शख्स 39 पत्नियों, 94 बच्चों के साथ 181 सदस्यों के परिवार का है मुखिया, जी रहा है खुशाल जीवन!

मिजोरम। भारतीय संस्कृति का मूल मंत्र रहा है वसुधैव कुटुंबकम। परन्तु आज 'विश्व परिवार दिवस' जैसे मौके पर यह याद दिलाना भी जरूरी है कि अब धीरे-धीरे नई पीढ़ी इस संस्कार को, इस संस्कृति को भूलती जा रही है या भुला चुकी है। आज के युग में जहां परिवार के दो सदस्य भी सही से एक घर में रहकर रिश्तो को नहीं निभा पा रहे हैं वहीं दूसरी ओर इस पूरी दुनिया के लिए एक बड़ी प्रेरणा बना है मिजोरम के जिओना चाना का परिवार। जहां दुनिया की सबसे बड़ी फैमिली के 181 सदस्य आज भी एक साथ रहते हैं। जिओना चाना इस परिवार के मुखिया हैं। वह अपनी 39 पत्नियों, 94 बच्चों, 14 बहुओं और 33 पोते-पोतियों के अलावा एक नन्हें पड़पोते के साथ बड़े प्यार से यहां 100 कमरों के घर में रहते हैं। हमारे परिवारों में शादी ब्याह या किसी बड़े फंक्शन में जितने लोगों का खाना बनता है उतना तो इस परिवार में रोजाना बनता है। यदि सुबह...

जिंदगी जिंदाबाद! कोरोना संकटकाल में 30 डॉक्टर किए एकजुट, दिन-रात मदद के लिए शुरू की निशुल्क हेल्पलाइन, संकट मौचक बन अब तक बचाई सैंकड़ों जिंदगियां

जयपुर (आलोक शर्मा). तीर खाने की हवस है तो जिगर पैदा कर, सरफ़रोशी की तमन्ना है तो सर पैदा कर, इन्ही गम की घटाओं से खुशी का चांद निकलेगा, अंधेरी रात के पर्दे में दिन की रौशनी भी है...इसी सोच, जोश और जुनून के साथ हार की परवाह किए बिना जीत की जिद के कुछ बादशाहों ने ठाना कि चाहे कुछ भी हो जनता को कोरोना संकट में यूं मरता नहीं देखा जा सकता, यही वो वक्त है जब अपना लहू भी देश की सेवा में अर्पण करना पड़े तो भी कोई गम नहीं.  एक ओर जहां अस्पतालों और चिकित्सकों पर यह आरोप लग रहे हैं कि वो कोरोना संकटकाल में भी लोगों को लूट रहे हैं वहीं दूसरी ओर इससे परे मजबूत इरादों, फौलादी हौसलों के साथ जयपुर के युवा कनिष्क शर्मा और अरस्तु शर्मा ने ठाना ​की पैसा जिंदगी में कभी भी कमाया जा सकता है पर यह वक्त लोगों के लिए निशुल्क सेवा का है. बस फिर क्या था जब लोग सही जानकारी और सही चिकित्सकीय पराम...

ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने वाली क्या इस तरकीब के बारे में आपको पता है? जानें हो सकती है मददगार

जयपुर। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी दिशा निर्देशों के अनुसार होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना संक्रमित मरीज प्रोनिंग के जरिए कम होते ऑक्सीजन लेवल में सुधार कर सकते हैं। कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। ऐसे में विशेषज्ञों ने ऑक्सीजन का स्तर कम होने पर खुद की निगरानी में प्रॉनिंग की सलाह दी है। आपको यह प्रक्रिया अस्पताल जानेेेेे से बचा सकती है।   ऑक्सीजन का स्तर 94 से नीचे आने पर हो प्रोनिंग जयपुर के सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ सुधीर भंडारी ने बताया कि जब ऑक्सीजन का स्तर 94 से नीचे आ जाए, तो होम आइसोलेशन में रहते हुए कोविड मरीज को प्रोनिंग करनी चाहिए। प्रोनिंग की यह स्थिति वेंटीलेशन में सुधार करके मरीज की जान तक बचा सकती है। ऑक्सीजनेशन होता है 80 प्रतिशत तक सफल डॉ भंडारी ने कहा कि प्रोनिंग की पोजीशन सांस...

राजस्थान में मई के अंत तक 5 हजार हैक्टेयर क्षेत्र में माइनर मिनरल ब्लॉक्स ऑक्शन के लिए होंगे तैयार

जयपुर। राजस्थान मई के अंत तक पांच हजार हैक्टेयर क्षेत्र के माइनर मिनरल ब्लॉक्स ऑक्शन के लिए तैयार कर दिए जाएंगे वहीं माइंस विभाग की प्रयोगशाला में प्रक्रियाधीन करीब 150 से अधिक केमिकल सैंपल की एनालिसिस रिपोर्ट आगामी 15 दिन में तैयार करने को निर्देशित किया गया है। ताकि ऑक्शन के लिए नए ब्लॉक तैयार कर इन क्षेत्रों में भी जल्द ऑक्शन की कार्यवाही शुरु की जा सके। अतिरिक्त मुख्य सचिव, माइंस एवं पेट्रोलियम डा.सुबोध अग्रवाल ने मंगलवार को वीसी के माध्यम से माइंस विभाग के भूविज्ञानियों से संवाद कायम करते हुए यह निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि ऑक्शन की पारदर्शी व्यवस्था से खुली प्रतिस्पर्धा और अधिक राजस्व व रोजगार के अवसर बने हैं। एसीएस डा. अग्रवाल ने कोटा संभाग के रामगंजमंडी के नीमाना दूनिया, उदयपुर के गुपरी हरियाव और चित्तोडगढ़ के सतकाड़ा के करीब 300 मिलियन टन लाइमस्टोन भण्डारों की केमिकल एनालिसिस क...