Special

लम्बे समय बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत दिल्ली में, पांच सवाल पूछे गए तो क्या मिले जवाब? पढें...

नई दिल्ली. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत करीब दस माह बाद दिल्ली दौरे पर हैं. इस दौरान उनकी कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी के साथ कई वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं से भी मुलाकात होनी हैं.  राजनीतिक गलियारों में अशोक गहलोत को राष्ट्रीय कांग्रेस का कार्यका​री अध्यक्ष बनाने के आॅफर मिलने की बात सामने आ रही है तो कोई कह रहा है कि वो राजनीतिक नियुक्तियों की लिस्ट लेकर दिल्ली गए हैं ताकि उन पर फाइनल मुहर लग सके. इस दौरान मंत्रीमंडल विस्तार पर भी चर्चा करेंगे और किसे मंत्री बनाना है किसे हटाना है इस पर चर्चा करने दिल्ली गए हैं. गहलोत और पायलट के बीच बेहतर समन्वय के प्रयास भी इस दौरान आलाकमान द्वारा किए जाएंगे ऐसी भी चर्चा है ताकि दोनों का सम्मान बना रहे. बहरहाल अब चाहे चर्चे जो भी हों लेकिन दिल्ली पहुंचने पर पत्रकारों ने गहलोत से क्या सवाल किए और क्या गहलोत के जवाब रहे आप भी पढें. पां...

BJP में घनश्याम तिवाड़ी के घर वापसी की पटकथा के पीछे के 10 कटु सत्य, जरूर पढ़ें

जयपुर (सुभद्र पापड़ीवाल). राजस्थान की राजनीति में इस वक़्त का सबसे हॉट टॉपिक है घनश्याम तिवाड़ी की BJP में वापसी। राजनीतिक गलियारों में उनकी वापसी के सब अपने-अपने हिसाब से मायने निकाल रहे हैं। आखिर क्यों घनश्याम तिवारी को भाजपा ही सबसे बेहतर विकल्प लगा और क्यों घनश्याम तिवारी की वापसी की पटकथा बीजेपी आलाकमान के निर्देश पर लिखी गई। पूरी पॉलीटिकल पटकथा के 10 कटु सत्य  1. राजाजी का हाथी किसी जागीरदार के यहां बांधने को सजा के रूप में देखा जाता था। हाथी की सार संभाल, वजन और स्वास्थ्य की चिंता में जागीरदार जी चौकड़ी भूल जाते थे। राहुल गांधी ने अपने मंच पर घनश्याम तिवाड़ी को कांग्रेस में शामिल किया था और राजस्थान के राजनीतिक बाड़े में छोड़ दिया था। लेकिन तिवाड़ी के स्तर के नेता के लिए कांग्रेस में वैकेंसी थी कहां? जयपुर से कांग्रेस में वैसे भी अब दूसरे बड़े ब्राह्मण की गुंजाइश है भी नहीं...

एक IPS ऑफिसर की सजगता से पुलिस और बजरी माफियाओं के गठजोड़ का भंडाफोड़, 16 भ्रष्ट पुलिसकर्मी सस्पेंड

जयपुर. राजस्थान में भ्रष्टाचारियों के खिलाफ एक और जहां एंटी करप्शन ब्यूरो ने मोर्चा खोल रखा है वहीं दूसरी ओर खुद पुलिस अधिकारी भी अब अपने ही महकमे में फैले भ्रष्टाचार के सफाए में लग गए हैं. इसकी एक बड़ी बानगी जयपुर पुलिस कमिश्नरेट में देखने को मिली. जहां यंग और डायनामिक आईपीएस ऑफिसर जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (प्रथम) अजयपाल लाम्बा ने एक डिकॉय ऑपरेशन करवाया और बजरी माफियाओं के साथ गठजोड़ के खेल का भंडाफोड़ कर दिया. पिछले कई दिनों से अजय पाल लांबा को पुलिसकर्मियों और बजरी माफियाओं के गठजोड़ की शिकायत मिल रही थी. जिसके बाद एक मास्टर प्लान तैयार किया गया और इस गोपनीय मास्टर प्लान को आखिरकार सहयोगी पुलिस अधिकारियों की मदद से अंजाम तक पहुंचाया गया. 3 टीमों ने चाकसू व शिवदासपुरा थाने के इन 16 पुलिसकर्मियों को पकड़ा. राजस्थान पुलिस के एक आईपीएस ऑफिसर द्वारा की गई इस कार्रवाई की...

दुल्‍हन कोरोना पॉजिटिव, कोविड केयर सेंटर में सजा मंडप, PPE किट पहन लिए सात फेरे

बारां. शादी वह समय होता है जब दूल्हा और दुल्हन दोनों चाहते हैं कि उनकी खूबसूरती के चार चांद को हर कोई देखें. और उनके जीवन के इन नायाब क्षणों को कैमरे में कैद किया जाए. लेकिन कोरोना संकटकाल ने हर जगह अपनी मार से लोगों के ख्वाहिशों को चोट पहुंचाया है. ऐसा ही एक नजारा बारां में देखने को मिला. जहां शादी से कुछ घंटे पहले दुल्‍हन की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आई. और मजबूरी में कोविड केअर सेंटर में ही मंडप सजाना पड़ा, सात फेरे और वरमाला कार्यक्रम भी PPE किट में ही हुए. केलवाड़ा कोविड केयर सेंटर (Kelwara Covid Centre) में ही प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में विवाह की सभी रस्‍में निभाई गईं. इस दौरान दूल्हा दुल्हन के अलावा उनके माता-पिता और पंडित जी भी पीपीई किट पहने रहे. बता दें कि प्रशासनिक अधिकारियों ने दूल्हा-दुल्हन के परिवार की मांग पर कलेक्टर से मंजूरी मिलने के बाद कोरोना गाइडलाइन क...

कोरोना संक्रमण से उबरने के बाद रिपोर्ट निगेटिव आए तो भी है खतरा. रखें इन 10 बातों का ध्यान

यदि आप कोरोना से ठीक हो चुके हैं तो भी लापरवाही ना करें. यह लापरवाही आपके लिए ​जानलेवा साबित हो सकती है. आप दोबारो कोरोना के शिकार हो सकते हैं, जिसके इलाज में काफी परेशानियों को सामना करना पड सकता है. विशेषज्ञों के मुताबिक पोस्ट कोविड के मामलों में सबसे ज्यादा हार्ट और लंग्स में असर दिखाई दे रहा है. जो लापरवाही करने पर जानलेवा साबित हो सकता है. बडी बात यह है कि कई मामलों में कोरोना संक्रमण से ठीक हुए मरीजों के फेंफडों में फाइब्रोसिस बनने लगता है, जो सांस की समस्या का जनक है और सांस की तकलीफ पैदा करता है. जो लम्बे समय तक बना रहे तो फेंफडे खत्म कर सकता है. ठीक हुए मरीजों में लंबे समय तक सांस की तकलीफ के अलावा दिल की बीमारी, गले में खरास, कफ बनना, थकान, सिरदर्द, भ्रम, अपच जैसी स्वास्थ्य से जुड़ी तकलीफें भी पैदा हो सकती है. कोरोना संक्रमण की रिपोर्ट निगेटिव आ गई इसका मतलब सि...

अमेरिका में क्यों रोचक हुए राष्ट्रपति चुनाव? बाइडेन या ट्रंप भारी? क्यों बढा दी गई है सुरक्षा? मुस्लिमों ने किसका दिया साथ? स्पेशल रिपोर्ट

वाशिंगटन (न्यू जर्सी से निमिषा सिंह की रिपोर्ट). अमेरिकी राष्ट्रपति के चुनाव बेहद रोचक दौर में पहुंच गए हैं. बहुमत के लिए 270 का जादुई आंकडा चाहिए और इस लिहाज से ना तो ट्रंप को और ना ही जो बाइडेन को यह आंकडा मिल सका है.  बडी बात यह है कि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव 2020 की मतगणना को शुरू हुए 12 घंटे से ज्यादा का वक्त हो चुका है लेकिन तस्वीर साफ नहीं हो पाई है. हालांकि जो बाइडेन इस मामले में अभी बढत लिए हुए दिखाई दे रहे हैं जहां 238 पर जो बाइडेन और 213 सीटों पर ट्रंप आगे हैं.    चुनाव विशेषज्ञों के मुताबिक अमेरिका के इतिहास में दशकों बाद इस तरह के हालात बने हैं कि जीत और हार का फैसला इतना मुश्किल हो गया है और मतगणना में इतना समय लग रहा है. अभी तक किसी के जीत के संकेत नहीं हैं. भले ही जो बाइडेन आंकडों में इस वक्त आगे हों लेकिन ट्रंप ने खुद की जीत को निश्चित बता ...

रिपब्लिक टीवी पैसा देकर टीआरपी बढ़ाता है, रैकेट का भंडाफोड़: मुम्बई पुलिस

मुम्बई.सुशांत केस में मुंबई पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है. कमिश्नर ने बताया कि मुंबई पुलिस के खिलाफ फेक अजेंडा चल रहा था. फर्जी TRP रैकेट का भंडाफोड़ हुआ है. फॉल्स TRP का रैकेट चल रहा था. पुलिस ने कहा, 'रिपब्लिक भारत ने पैसे देकर रेटिंग बढ़ाई. रैकेट के जरिए पैसा देकर TRP के मैन्युपुलेट किया जाता था. मुंबई पुलिस को तीन चैनलों का पता चला है. इस मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है और 8 लाख रुपये जब्त किए गए हैं.' रिपब्लिक भारत के साथ बॉक्स सिनेमा और वक्त मराठी चैनल भी इसमें शामिल हैं. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि ये टीवी चैनल पैसा देकर टीआरपी को मैन्युपुलेट करने का काम कर रहे थे. पुलिस के मुताबिक रिपब्लिक टीवी पैसा देकर टीआरपी बढ़ाता है. चैनल के डायरेक्‍टर के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है. चैनल के खातों की जांच हो सकती है.   मामले में ‘रिपब्लिक टीवी’ क...

पटाखे बढा सकते हैं कोरोना मरीजों की पेरशानी, राजस्थान राज्य मानवाधिकार आयोग ने लिया प्रसंज्ञान

जयपुर. पटाखों के प्रदूषण से कोरोना का खतरा बढने के मामले में राजस्थान राज्य मानवाधिकार आयोग ने प्रसंज्ञान लिया है. आयोग अध्यक्ष जस्टिस महेश चन्द्र शर्मा ने प्रसंज्ञान लेते हुए राज्य सरकार से 12 अक्टूबर तक तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी है. वहीं राजस्थान के मुख्य सचिव, गृह विभाग, कलेक्टर, एसपी को पटाखों से उत्पन्न प्रदूषण की रोकथाम के लिए आवश्यक कार्रवाई के भी आदेश दिए हैं....

भारत में 64 लाख लोग मई में ही हो चुके थे संक्रमित! ICMR के सीरो सर्वे में बड़ा खुलासा

नई दिल्ली. भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद यानी इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने पूरे देश में किए गए सीरो सर्वे (Sero Survey) के पहले दौर के नतीजों का ऐलान किया तो बड़ा हड़कंप मच गया. सर्वे में ना केवल भारत की ग्रामीण आबादी को लेकर चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए बल्कि यह भी संकेत मिले हैं कि भारत में मई की शुरुआत तक ही 64,68,388 लोगों के कोरोना वायरस संक्रमण के चपेट में ले चुका था. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि सर्वेक्षण के निष्कर्षों से संकेत मिलता है कि भारत में ‘सीरोप्रेवलेंस’ (प्रसार) समग्र रूप से कम था और मई 2020 के मध्य तक केवल 1% व्यस्क आबादी ही सार्स-COV-2 की चपेट में आई थी. गौरतलब है कि कारोना सीरो सर्वे में किसी संक्रमित क्षेत्र में रहने वाले लोगों के खून के सीरम की जांच की जाती है. इस सर्वे में लोगों के शरीर में कोरोना वायरस से लड़ने वाले एंटीबॉडीज की...

TEN NEWS IMPACT, कोरोना संक्रमित मरीजों को मिली बड़ी राहत, मदद के लिए बनाई हेल्पलाइन डेस्क, 24 घंटे करेगी काम

जयपुर. राजस्थान में THE END NEWS की खबर का बड़ा असर हुआ है. इसके साथ ही इस बात का भी अंदाजा लगाया जा सकता है कि राजस्थान सरकार कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे को लेकर बेहद गंभीर है. साधन भले ही सीमित हों लेकिन सरकार अपने साधनों का बेहतर नियोजन करने में पीछे नहीं है. 5 सितंबर को THE END NEWS ने 'कोरोना संक्रमण सामुदायिक प्रसार की ओर, राजस्थान सरकार ने तुरंत नहीं किए यह 10 काम तो समझो सारी मेहनत पर फिरा पानी' इस हैडलाइन के साथ खबर प्रमुखता से चलाई थी.   यह थी खबर: कोरोना संक्रमण सामुदायिक प्रसार की ओर, राजस्थान सरकार ने तुरंत नहीं किए यह 10 काम तो समझो सारी मेहनत पर फिरा पानी.   खबर के पॉइंट नंबर 3, 4, 5, 6 पर सरकार ने तुरंत कदम उठाते हुए न केवल कोविड डेडिकेटेड सरकारी बल्कि निजी अस्पतालों में भी हेल्प डेस्क बनाने के आदेश दिए हैं. और तो और पूरे कार्य की मॉनिटरि...