Special

भारत में रहने वाला यह शख्स 39 पत्नियों, 94 बच्चों के साथ 181 सदस्यों के परिवार का है मुखिया, जी रहा है खुशाल जीवन!

मिजोरम। भारतीय संस्कृति का मूल मंत्र रहा है वसुधैव कुटुंबकम। परन्तु आज 'विश्व परिवार दिवस' जैसे मौके पर यह याद दिलाना भी जरूरी है कि अब धीरे-धीरे नई पीढ़ी इस संस्कार को, इस संस्कृति को भूलती जा रही है या भुला चुकी है। आज के युग में जहां परिवार के दो सदस्य भी सही से एक घर में रहकर रिश्तो को नहीं निभा पा रहे हैं वहीं दूसरी ओर इस पूरी दुनिया के लिए एक बड़ी प्रेरणा बना है मिजोरम के जिओना चाना का परिवार। जहां दुनिया की सबसे बड़ी फैमिली के 181 सदस्य आज भी एक साथ रहते हैं। जिओना चाना इस परिवार के मुखिया हैं। वह अपनी 39 पत्नियों, 94 बच्चों, 14 बहुओं और 33 पोते-पोतियों के अलावा एक नन्हें पड़पोते के साथ बड़े प्यार से यहां 100 कमरों के घर में रहते हैं। हमारे परिवारों में शादी ब्याह या किसी बड़े फंक्शन में जितने लोगों का खाना बनता है उतना तो इस परिवार में रोजाना बनता है। यदि सुबह...

जिंदगी जिंदाबाद! कोरोना संकटकाल में 30 डॉक्टर किए एकजुट, दिन-रात मदद के लिए शुरू की निशुल्क हेल्पलाइन, संकट मौचक बन अब तक बचाई सैंकड़ों जिंदगियां

जयपुर (आलोक शर्मा). तीर खाने की हवस है तो जिगर पैदा कर, सरफ़रोशी की तमन्ना है तो सर पैदा कर, इन्ही गम की घटाओं से खुशी का चांद निकलेगा, अंधेरी रात के पर्दे में दिन की रौशनी भी है...इसी सोच, जोश और जुनून के साथ हार की परवाह किए बिना जीत की जिद के कुछ बादशाहों ने ठाना कि चाहे कुछ भी हो जनता को कोरोना संकट में यूं मरता नहीं देखा जा सकता, यही वो वक्त है जब अपना लहू भी देश की सेवा में अर्पण करना पड़े तो भी कोई गम नहीं.  एक ओर जहां अस्पतालों और चिकित्सकों पर यह आरोप लग रहे हैं कि वो कोरोना संकटकाल में भी लोगों को लूट रहे हैं वहीं दूसरी ओर इससे परे मजबूत इरादों, फौलादी हौसलों के साथ जयपुर के युवा कनिष्क शर्मा और अरस्तु शर्मा ने ठाना ​की पैसा जिंदगी में कभी भी कमाया जा सकता है पर यह वक्त लोगों के लिए निशुल्क सेवा का है. बस फिर क्या था जब लोग सही जानकारी और सही चिकित्सकीय पराम...

ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने वाली क्या इस तरकीब के बारे में आपको पता है? जानें हो सकती है मददगार

जयपुर। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी दिशा निर्देशों के अनुसार होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना संक्रमित मरीज प्रोनिंग के जरिए कम होते ऑक्सीजन लेवल में सुधार कर सकते हैं। कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। ऐसे में विशेषज्ञों ने ऑक्सीजन का स्तर कम होने पर खुद की निगरानी में प्रॉनिंग की सलाह दी है। आपको यह प्रक्रिया अस्पताल जानेेेेे से बचा सकती है।   ऑक्सीजन का स्तर 94 से नीचे आने पर हो प्रोनिंग जयपुर के सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ सुधीर भंडारी ने बताया कि जब ऑक्सीजन का स्तर 94 से नीचे आ जाए, तो होम आइसोलेशन में रहते हुए कोविड मरीज को प्रोनिंग करनी चाहिए। प्रोनिंग की यह स्थिति वेंटीलेशन में सुधार करके मरीज की जान तक बचा सकती है। ऑक्सीजनेशन होता है 80 प्रतिशत तक सफल डॉ भंडारी ने कहा कि प्रोनिंग की पोजीशन सांस...

राजस्थान में मई के अंत तक 5 हजार हैक्टेयर क्षेत्र में माइनर मिनरल ब्लॉक्स ऑक्शन के लिए होंगे तैयार

जयपुर। राजस्थान मई के अंत तक पांच हजार हैक्टेयर क्षेत्र के माइनर मिनरल ब्लॉक्स ऑक्शन के लिए तैयार कर दिए जाएंगे वहीं माइंस विभाग की प्रयोगशाला में प्रक्रियाधीन करीब 150 से अधिक केमिकल सैंपल की एनालिसिस रिपोर्ट आगामी 15 दिन में तैयार करने को निर्देशित किया गया है। ताकि ऑक्शन के लिए नए ब्लॉक तैयार कर इन क्षेत्रों में भी जल्द ऑक्शन की कार्यवाही शुरु की जा सके। अतिरिक्त मुख्य सचिव, माइंस एवं पेट्रोलियम डा.सुबोध अग्रवाल ने मंगलवार को वीसी के माध्यम से माइंस विभाग के भूविज्ञानियों से संवाद कायम करते हुए यह निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि ऑक्शन की पारदर्शी व्यवस्था से खुली प्रतिस्पर्धा और अधिक राजस्व व रोजगार के अवसर बने हैं। एसीएस डा. अग्रवाल ने कोटा संभाग के रामगंजमंडी के नीमाना दूनिया, उदयपुर के गुपरी हरियाव और चित्तोडगढ़ के सतकाड़ा के करीब 300 मिलियन टन लाइमस्टोन भण्डारों की केमिकल एनालिसिस क...

जनता को फ्री रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध कराने के लिए विधायक ने तुड़वा दी अपनी 90लाख की FD

महाराष्ट्र (आलोक शर्मा)। अक्सर जनता मानती है कि जब भी उनको जरूरत होती है तब उनके वोट के दम पर जीतने वाले नेता, विधायक और सांसद अक्सर नदारद मिलते हैं। सिर्फ वोट लेने के वक्त ही वह जनता के बीच में रहते हैं और जनता का भला सोचने की बातें करते हैं। लेकिन इस मिथ्य को तोड़ते हुए महाराष्ट्र के एक विधायक ने अनूठी मिसाल पेश की है। और इंसानियत की उनके द्वारा पेश की गई इस मिसाल की हर कोई तारीफ करता नजर आ रहा है। महाराष्ट्र में शिवसेना के विधायक संतोष बांगर ने अपने बुढ़ापे के सहारे के तौर पर ₹90लाख की एफडी कराई थी लेकिन कोरोना संकटकाल में जो भयावह मंजर उन्होंने देखा उसके बाद उनसे रहा नहीं गया और उन्होंने बिना अपने भविष्य की चिंता किए हुए तुरंत ही उन नब्बे लाख रूपए की FD तुड़वाकर एक डिस्ट्रीब्यूटर को सौंप दी। ताकि वह रेमडेसिविर इंजेक्शन उनके क्षेत्र की जनता को फ्री में उपलब्ध करवा सकें। क्योंकि इ...

क्या रेमडेसिविर इंजेक्शन ही कोरोना संक्रमित मरीजों की जान बचा सकता है? कितना कारगर है यह इंजेक्शन? पढें देश के 4 दिग्गज डाॅक्टर्स ने क्या कहा?

जयपुर। देशभर में कोरोना संक्रमण का दौर परवान पर है. और हर ओर आॅक्सीजन के साथ साथ सबसे ज्यादा हाहाकार जिस इंजेक्शन को लेकर मचा है वो है रेमडेसिविर इंजेक्शन. लोग किसी भी कीमत पर इस इंजेशन को लेना चाहते हैं मानो यह कोई सजीवनी जड़ी बूटी जैसा हो जो कोरोना से होने वाली मौत से चुटकियों में बचा लेगा. क्या हर संक्रमित मरीज को रेमडेसिविर इंजेक्शन लगवाना जरूरी है? क्या रेमडेसिविर के बिना कोई कोरोना संक्रमित मरीज सही नहीं हो सकता? क्या रेमडेसिविर इंजेक्शन ही कोरोना संक्रमित मरीजों की जान बचा सकता है? ऐसे कई सवाल हैं, जो कोरोना संक्रमित और उनके परिजनों को इन दिनों परेशान कर रहे हैं।   विशेषज्ञों का मानना है कि हर कोरोना संक्रमित मरीज को रेमडेसिविर इंजेक्शन लगवाने की जरूरत नहीं है। आप भी जानें रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरूरत के बारे में स्वयं उनकी जुबानी- रेमडेसिविर कोरोना की अवधि को कम ...

7 लाख वर्ग फुट में बनेगा 5 हजार बेड का अस्थाई कोविड केयर सेंटर, राधास्वामी सत्संग केन्द्र और राजस्थान सरकार की पहल

जयपुर. राजस्थान में कोरोना के बढते खतरे से निपटने के लिए सरकार हर वो संभव प्रयास कर रही है जिससे इसकी आक्रमकता को बढने से रोका जा सके. हर संभव इलाज, हर जरूरतमंद तक पहुंच सके. इसी कड़ी में अब राजस्थान सरकार ने राधास्वामी सत्संग केन्द्र के साथ मिलकर एक और बड़ी पहल की है. बढ़ते कोरोना मरीज और अस्पतालों में बेड की कमी बीच अलर्ट सरकार ने जयपुर के बीलवा में स्थित राधा स्वामी सत्संग ब्यास (Radha Swami Satsang Beas) केंद्र में 7 लाख वर्ग फुट एरिया क्षेत्र में 5 हजार कोविड मरीजों के लिए अस्थाई कोविड केयर सेंटर (Covid Care Center) बनाने का निर्णय किया है और इस पर तुरंत काम भी शुरू कर दिया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर पूरा सरकारी अमला जयपुर कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा, जयपुर विकास प्राधिकरण आयुक्त गौरव गोयल के नेतृत्व में इस अस्थाई अस्पताल के निर्माण में जुट गया है. स्वास्थ्य विभाग के अध...

देश में वैक्सीन चोरी का पहला मामला, राजस्थान के सरकारी कावंटिया अस्पताल से 320 वैक्सीन की डोज चोरी 

जयपुर. एक ओर जहां राजस्थान सरकार प्रदेश में लगातार कोविड वैक्सीन की कमी को लेकर चिंतित है, लगातार केन्द्र से वैक्सीन की मांग की जा रही है. वहीं दूसरी ओर आलम यह है कि जयपुर के सरकारी कांवटिया अस्पताल से 320 कोरोना वैक्सीन की डोज ही गायब हो गई है. अस्पताल प्रशासन को जैसे ही इसकी जानकारी  मिली तो होश फाख्ता हो गए. पहले तो मामले को चुपचाप दबाने की कोशिश की गई लेकिन जैसे ही मामला सामने आया तो अब मामले की सूचना स्थानीय पुलिस को दी गई है. और वैक्सीन चोरों का पता लगाने के लिए एफआईआर दर्ज करवाई गई है. माना जा रहा है कि इस वैक्सीन के गायब होने से  जुडे खेल में अस्पताल का ही स्टाफ शामिल है. जिसने या तो ब्लैक में या अपने ही चहेतों को यह  वैक्सीन उपलब्ध करवा दी है. अस्पताल के स्टाफ से पूछताछ की जा रही है. कावंटिया अस्पताल के अधीक्षक डॉक्टर हर्षवर्धन ने शास्त्री नगर थाने में व...

आईपीएल के पहले ही मैच में बैंगलोर ने मुंबई को हराया

चेन्नई. आईपीएल के 14वें सीजन के पहले मैच में मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में टक्कर हुई जहां रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने जीत हासिल की। मुंबई इंडियंस को 2 विकेट से हराया। यह लगातार 9वीं बार है जब पहला मैच मुंबई इंडियंस हारी है।

3 हजार 500 करोड़ की लागत से, देश में पहली बार राजस्थान में 'Universal Health Coverage' होगी लागू

जयपुर। स्वास्थ्य के क्षेत्र में राजस्थान को मजबूत करने के लिए हादसे आगामी वर्ष से 3 हजार 500 करोड़ रूपये की लागत से, देश में पहली बार किसी प्रदेश में 'Universal Health Coverage' लागू होगी। जिससे राज्य के प्रत्येक परिवार को 5 लाख रूपये की चिकित्सा बीमा सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। इस प्रकार, आयुष्मान भारत महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना के NFSA एवं SECC परिवारों के साथ-साथ समस्त संविदाकर्मियों, लघु एवं सीमान्त कृषकों को निःशुल्क तथा अन्य परिवारों को बीमा प्रीमियम की 50 प्रतिशत राशि पर (अर्थात लगभग 850 रूपये वार्षिक खर्च पर) सरकारी व निजी चिकित्सा संस्थानों में cashless इलाज हेतु 5 लाख रूपये तक की वार्षिक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। राजस्थान सरकार का बजट पेश करते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने यह घोषणा की। हर व्यक्ति को बेहतर स्वास्थ्य मिले और उद्योग बीमार हो...