Special

बर्ड फ्लू का खतरा बढ़ा, कानपुर में चिड़ियाघर के सभी पक्षी मारने के आदेश

कानपुर. पूरा देश एक और जहां कोरोना के खतरे से दो-चार हो रहा है. लोगों की चिंता है कि पहले ही कोरोना के खतरे से बढ़ रही थीं, वहीं दूसरी ओर अब बर्ड फ्लू के खतरे ने लोगों का जीना मुश्किल कर दिया है. इस बीच पर्यावरण प्रेमियों और पक्षी प्रेमियों के लिए दुखद खबर है. बर्ड फ्लू के बढ़ते खतरे के बीच में उत्तर प्रदेश के कानपुर में जिला प्रशासन ने सख्ती अपनाई है और चिड़िया घर में मौजूद सभी पक्षों को तुरंत मारने के आदेश दिए हैं. इतना ही नहीं जू के 10 किलोमीटर के दायरे को प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर दिया गया है. इसके अलावा जनपद में सभी चिकन की दुकानों को अगले आदेश तक बंद कराया गया....

राजस्थान के IAS रोहित कुमार सिंह और कुलदीप रांका देश के टॉप 50 ब्यूरोक्रेट में, अजय भल्ला रहे पहले नम्बर पर   

नई दिल्ली (आलोक शर्मा). फेम इंडिया मैग्जीन की ओर से चुने गए देश के टॉप 50 ब्यूरोक्रेट्स में भारत सरकार के गृह सचिव अजय भल्ला पहले पायदान पर रहे. भल्ला असम मेघालय कैडर के 1984 बैच के आईएएस अफसर हैं और उनकी कार्यशैली ब्यूरोक्रेसी में हमेशा चर्चा का विषय रही है. सीनियर आईएएस अधिकारी अजय कुमार भल्ला देश के सबसे कुशल प्रशासकों में गिना जाता है. अजय भल्ला मूल रूप से दिल्ली के हैं और असम, मेघालय तथा केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर उनका प्रशासनिक अनुभव लंबा है. वे कई अहम पदों पर रह चुके हैं. वे चुनौती पूर्ण कार्यों को सहज तरीके से निपटाने के लिए जाने जाते हैं. गृह मंत्री अमित शाह की टीम में उनकी अहम जवाबदेही है. देशभर में विभिन्न पदों पर कार्यरत 5200 से अधिक आईएएस अधिकारियों के बीच फेम इंडिया की तरफ से वर्ष 2020 में यह सर्वे कराया गया था जिसमें 50 आईएएस को कुल सात पैमानों के आधार पर स...

क्या चाहते हैं हूती विद्रोही? जो यमन में एयरपोर्ट पर 26 लोगों को हमला कर मार डाला, क्यों रची पूरी सरकार को मारने की साजिश? पढें

सना."हम और सरकार के अन्य सदस्य अदन में हैं और हम सुरक्षित हैं. कायर चरमपंथियों ने अदन हवाई अड्डे को निशाना बनाया जो कि यमन के लोगों और यमन के ख़िलाफ़ छेड़े गए युद्ध का ही हिस्सा है." हमले के बाद प्रधानमंत्री मइन अब्दुल मलिक सईद ने यह बात कही. बता दें दक्षिणी शहर अदन एयरपोर्ट (Aden Airport) पर बुधवार शाम भीषण धमाका हुआ. सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि यह धमाका (Terrorist Explosion) नव गठित कैबिनेट के सदस्यों को लेकर आए विमान के उतरने के कुछ देर बाद हुआ. विस्फोट के कारण कम से कम 26 लोग मारे गए और 100 से ज्यादा घायल हो गए. एक मिसाइल ने टरमैक को हिट किया और विस्फोट हुआ. इससे पूर्व भी अगस्त, 2019 में अदन में एक सैन्य परेड पर हूती विद्रोहियों के मिसाइल हमले में 36 लोगों की मौत हो गई थी. और यह हमला भी हूती विद्रोहियों की साजिश बताया गया. गौर करने वाली बात यह है कि सऊदी की ...

सावधान! जिसका डर था वही हुआ, कोरोना का नया स्ट्रेन ब्रिटेन से भारत पहुंचा, 6 लोग संक्रमित

नई दिल्ली. जिसका भारत को डर था आखिरकार वही हुआ. कोरोना नया स्ट्रेन लंदन से भारत पहुंच गया है. भारत में छह संक्रमितों में यह वायरस मिला है और यह सभी छह लोग वो हैं जो ब्रिटेन से हाल में भारत लौटे हैं. इनमें से तीन सैम्पल बेंगलुरु, दो हैदराबाद और एक पुणे के इंस्टिट्यूट भेजे गए थे जिसमें इनमें तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश और तेलंगाना के एक-एक सैम्पल में नए स्ट्रेन की पुष्टि हुई. बाकी तीन मरीज कहां के हैं, इसका पता लगाया जा रहा है. लंदन में हाहाकार मचाने वाला यह कोराना का नया स्ट्रेन पहले वाले स्ट्रेन की तुलना में करीब 70 फीसदी तेजी से बढता है. बता दें कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस का जो नया स्ट्रेन मिला है, उसका नाम है B.1.1.7. वैज्ञानिकों को शुरूआती जांच में यह पता चला कि म्यूटेशन से बना B.1.1.7 स्ट्रेन अत्यधिक संक्रामक है, लेकिन खतरनाक कम है. इसका मतलब ये नहीं कि यह किसी की जान नहीं ले सकता. इस स्...

अवैध खनन कर खोद डाला धरती माँ का सीना, जहां पहाड़ था वहां पानी का दरिया बना, अधिकारियों की मिलीभगत का बड़ा मामला

भरतपुर. राजस्थान की धरा पर हो रहे अवैध खनन को लेकर कई बार कोर्ट फटकार लगा चुका है. राजस्थान सरकार के मुखिया खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अवैध खनन करने वालों के खिलाफ सख्त एक्शन के निर्देश दे चुके हैं. बावजूद इसके माइनिंग डिपार्टमेंट में भ्रष्टाचार इस क़दर बढ़ा है कि ठेकेदारों से मिलीभगत कर अवैध खनन को बढ़ावा दिया जा रहा है. मासिक बंदी का खेल कुछ ऐसा है कि अपनी ही धरती मां का सीना भले ही छलनी किया जा रहा हो लेकिन सब आंख मूंद कर बैठे हैं. राजस्थान के भरतपुर जिले के नांगल में जमीन से सैकड़ों फीट ऊपर मौजूद रहे पहाड़ को इस हद तक खोदा गया कि जमीन से कई फीट नीचे तक अवैध खनन की इस कदर बाढ़ आई जहां पहाड़ था वहां पानी की नदियां बन गई. अब इस लापरवाही को छुपाने के लिए आनन-फानन में किसी को यह पानी नजर ना आए इस लिहाज से कचरे और मलबे से इसे भरा जा रहा है. आलम यह है कि प्रकृति और पर्यावरण से खिलवाड...

लम्बे समय बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत दिल्ली में, पांच सवाल पूछे गए तो क्या मिले जवाब? पढें...

नई दिल्ली. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत करीब दस माह बाद दिल्ली दौरे पर हैं. इस दौरान उनकी कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी के साथ कई वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं से भी मुलाकात होनी हैं.  राजनीतिक गलियारों में अशोक गहलोत को राष्ट्रीय कांग्रेस का कार्यका​री अध्यक्ष बनाने के आॅफर मिलने की बात सामने आ रही है तो कोई कह रहा है कि वो राजनीतिक नियुक्तियों की लिस्ट लेकर दिल्ली गए हैं ताकि उन पर फाइनल मुहर लग सके. इस दौरान मंत्रीमंडल विस्तार पर भी चर्चा करेंगे और किसे मंत्री बनाना है किसे हटाना है इस पर चर्चा करने दिल्ली गए हैं. गहलोत और पायलट के बीच बेहतर समन्वय के प्रयास भी इस दौरान आलाकमान द्वारा किए जाएंगे ऐसी भी चर्चा है ताकि दोनों का सम्मान बना रहे. बहरहाल अब चाहे चर्चे जो भी हों लेकिन दिल्ली पहुंचने पर पत्रकारों ने गहलोत से क्या सवाल किए और क्या गहलोत के जवाब रहे आप भी पढें. पां...

BJP में घनश्याम तिवाड़ी के घर वापसी की पटकथा के पीछे के 10 कटु सत्य, जरूर पढ़ें

जयपुर (सुभद्र पापड़ीवाल). राजस्थान की राजनीति में इस वक़्त का सबसे हॉट टॉपिक है घनश्याम तिवाड़ी की BJP में वापसी। राजनीतिक गलियारों में उनकी वापसी के सब अपने-अपने हिसाब से मायने निकाल रहे हैं। आखिर क्यों घनश्याम तिवारी को भाजपा ही सबसे बेहतर विकल्प लगा और क्यों घनश्याम तिवारी की वापसी की पटकथा बीजेपी आलाकमान के निर्देश पर लिखी गई। पूरी पॉलीटिकल पटकथा के 10 कटु सत्य  1. राजाजी का हाथी किसी जागीरदार के यहां बांधने को सजा के रूप में देखा जाता था। हाथी की सार संभाल, वजन और स्वास्थ्य की चिंता में जागीरदार जी चौकड़ी भूल जाते थे। राहुल गांधी ने अपने मंच पर घनश्याम तिवाड़ी को कांग्रेस में शामिल किया था और राजस्थान के राजनीतिक बाड़े में छोड़ दिया था। लेकिन तिवाड़ी के स्तर के नेता के लिए कांग्रेस में वैकेंसी थी कहां? जयपुर से कांग्रेस में वैसे भी अब दूसरे बड़े ब्राह्मण की गुंजाइश है भी नहीं...

एक IPS ऑफिसर की सजगता से पुलिस और बजरी माफियाओं के गठजोड़ का भंडाफोड़, 16 भ्रष्ट पुलिसकर्मी सस्पेंड

जयपुर. राजस्थान में भ्रष्टाचारियों के खिलाफ एक और जहां एंटी करप्शन ब्यूरो ने मोर्चा खोल रखा है वहीं दूसरी ओर खुद पुलिस अधिकारी भी अब अपने ही महकमे में फैले भ्रष्टाचार के सफाए में लग गए हैं. इसकी एक बड़ी बानगी जयपुर पुलिस कमिश्नरेट में देखने को मिली. जहां यंग और डायनामिक आईपीएस ऑफिसर जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (प्रथम) अजयपाल लाम्बा ने एक डिकॉय ऑपरेशन करवाया और बजरी माफियाओं के साथ गठजोड़ के खेल का भंडाफोड़ कर दिया. पिछले कई दिनों से अजय पाल लांबा को पुलिसकर्मियों और बजरी माफियाओं के गठजोड़ की शिकायत मिल रही थी. जिसके बाद एक मास्टर प्लान तैयार किया गया और इस गोपनीय मास्टर प्लान को आखिरकार सहयोगी पुलिस अधिकारियों की मदद से अंजाम तक पहुंचाया गया. 3 टीमों ने चाकसू व शिवदासपुरा थाने के इन 16 पुलिसकर्मियों को पकड़ा. राजस्थान पुलिस के एक आईपीएस ऑफिसर द्वारा की गई इस कार्रवाई की...

दुल्‍हन कोरोना पॉजिटिव, कोविड केयर सेंटर में सजा मंडप, PPE किट पहन लिए सात फेरे

बारां. शादी वह समय होता है जब दूल्हा और दुल्हन दोनों चाहते हैं कि उनकी खूबसूरती के चार चांद को हर कोई देखें. और उनके जीवन के इन नायाब क्षणों को कैमरे में कैद किया जाए. लेकिन कोरोना संकटकाल ने हर जगह अपनी मार से लोगों के ख्वाहिशों को चोट पहुंचाया है. ऐसा ही एक नजारा बारां में देखने को मिला. जहां शादी से कुछ घंटे पहले दुल्‍हन की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आई. और मजबूरी में कोविड केअर सेंटर में ही मंडप सजाना पड़ा, सात फेरे और वरमाला कार्यक्रम भी PPE किट में ही हुए. केलवाड़ा कोविड केयर सेंटर (Kelwara Covid Centre) में ही प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में विवाह की सभी रस्‍में निभाई गईं. इस दौरान दूल्हा दुल्हन के अलावा उनके माता-पिता और पंडित जी भी पीपीई किट पहने रहे. बता दें कि प्रशासनिक अधिकारियों ने दूल्हा-दुल्हन के परिवार की मांग पर कलेक्टर से मंजूरी मिलने के बाद कोरोना गाइडलाइन क...

कोरोना संक्रमण से उबरने के बाद रिपोर्ट निगेटिव आए तो भी है खतरा. रखें इन 10 बातों का ध्यान

यदि आप कोरोना से ठीक हो चुके हैं तो भी लापरवाही ना करें. यह लापरवाही आपके लिए ​जानलेवा साबित हो सकती है. आप दोबारो कोरोना के शिकार हो सकते हैं, जिसके इलाज में काफी परेशानियों को सामना करना पड सकता है. विशेषज्ञों के मुताबिक पोस्ट कोविड के मामलों में सबसे ज्यादा हार्ट और लंग्स में असर दिखाई दे रहा है. जो लापरवाही करने पर जानलेवा साबित हो सकता है. बडी बात यह है कि कई मामलों में कोरोना संक्रमण से ठीक हुए मरीजों के फेंफडों में फाइब्रोसिस बनने लगता है, जो सांस की समस्या का जनक है और सांस की तकलीफ पैदा करता है. जो लम्बे समय तक बना रहे तो फेंफडे खत्म कर सकता है. ठीक हुए मरीजों में लंबे समय तक सांस की तकलीफ के अलावा दिल की बीमारी, गले में खरास, कफ बनना, थकान, सिरदर्द, भ्रम, अपच जैसी स्वास्थ्य से जुड़ी तकलीफें भी पैदा हो सकती है. कोरोना संक्रमण की रिपोर्ट निगेटिव आ गई इसका मतलब सि...