Special

कोरोना संकट में भारत की आर्थिक मजबूती के लिए कई बड़े एलान, जानें RBI गवर्नर की 10 बड़ी बातें

नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा है कि देश के बैंकों के पास पैसों की कोई कमी नहीं है, बाजार में कैस की कमी नहीं आने दी जाएगी. कोरोना वायरस की वजह से अर्थव्यवस्था को नुकसान हो रहा है. संकट के बीच वित्तीय हालातों पर पूरी नजर है. देश की वित्तीय हालत पहले से बिगड़ी है. दुनियाभर में 9 ट्रिलियन डॉलर के नुकसान की आशंका है. हालांकि जी-20 देशों में भारत की स्थिति बेहतर है. 2020 वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए सबसे बड़ी मंदी का साल है. RBI की बड़ी बातें: 1 - अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के अनुसार इस साल 1.9% विकास दर रहने का अनुमान. कोरोना के बाद 7.4% विकास दर की उम्मीद है. कोरोना के बाद बैंको की हालात सुधारना बड़ी चुनौती. 2- ग्लोबल बिजनेस में 13-32% गिरावट की आशंका. 3- रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं, यह 4.4 फीसदी पर स्थिर है. रिवर्स रेपो रेट 0.25 फीस...

कोरोना हारेगा जीतेगा इंडिया. बस थोड़ा और रखें धैर्य, समझें 10 फैक्ट्स से

नई दिल्ली (सुभद्र पापड़ीवाल). भारत में कोरोना के आतंक से निपटने के लिए एक बार फिर लॉक डाउन को 3 मई तक बढा दिया गया है, पहले लॉक डाउन का वक्त 21 दिन का था जो 14 अप्रेल को समाप्त होने वाला था लेकिन इसे फिर बढा दिया गया. लेकिन इस बीच लगातार निराशा झेल रहे लोगों, व्यापारियों के लिए कुछ आशा की किरण भी बाजार में है. लॉकडाउन के दौरान कई फार्मा, चिकित्सा और डिजिटल कंपनियों में उछाल देखा गया है. इंटरनेट आधारित व्यापार, ई-कॉमर्स से जुड़े सेक्टर बढेंगे वहीं परिवहन, भंडारण, वेयर हाउसिंग जैसे क्षेत्र लॉकडाउन खत्म होने के बाद तेजी से वापसी करेंगे. यात्रा, होटल, विदेश यात्रा और शॉपिंग मॉल जैसे क्षेत्रों में जल्द वापसी की उम्मीद नहीं है लेकिन दुनिया अब पहले जैसी नहीं रहते वाली है. अवसाद और निराशा के इस माहौल में जब हर व्यक्ति सकारात्मक (Positive) खबर की आस लगाए बैठा है तब हर तरफ से नकारात्मक (Negative...

देश में लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ाया गया

नई दिल्ली. भारत मे लॉक डाउन 3 मई तक बढ़ा दिया गया है. प्रधानमंत्री ने सात बातों में साथ मांगा है. पहली बात- अपने घर के बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखें. विशेषकर ऐसे व्यक्ति जिन्हें पुरानी बीमारी हो, उनकी हमें Extra Care करनी है, उन्हें कोरोना से बहुत बचाकर रखना है. दूसरी बात- लॉकडाउन और Social Distancing की लक्ष्मण रेखा का पूरी तरह पालन करें , घर में बने फेसकवर या मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग करें. तीसरी बात- अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए, आयुष मंत्रालय द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करें, गर्म पानी, काढ़ा, इनका निरंतर सेवन करें. चौथी बात- कोरोना संक्रमण का फैलाव रोकने में मदद करने के लिए आरोग्य सेतु मोबाइल App जरूर डाउनलोड करें। दूसरों को भी इस App को डाउनलोड करने के लिए प्रेरित करें. पांचवी बात- जितना हो सके उतने गरीब परिवार की देखरेख करें, उनके भोजन की आवश्यकता पूरी करें. ...

हाईटेक जापान, कोरोना संकट में स्टूडेंट्स का रूप धर डिग्री लेने पहुंचे रोबोट्स!

जापान. कोरोना के आतंक से दुनिया संकट में है. जापान भी इससे अछूता नहीं है. चीन का पड़ोसी होने से जापान को बड़ा खतरा है. पर जापान को दुनिया इस लिहाज से जानती है कि देश छोटा जरुर है लेकिन हौसले बहुत बड़े हैं. खत्म हो जाने के बाद फिर से खड़ा होना जापान से सीखा जा सकता है. हिरोशिमा और नागासाकी पर हमले के बावजूद खत्म हो चुके जापान ने विश्व के सामने जो उदाहरण पेश किया वो किसी से छुपा नहीं है. अक्सर जापान ऐसे कई उदाहरण पेश कर चुका है जो वहां की तकनीक और हौसलों के जरिए दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचता है. ताजा मामला कोरोना के दुनियाभर के साथ जापान में फैले आतंक का है. जापान में कोरोना वायरस के चलते स्प्रिंग ग्रैजुएशन सेरिमनी कैंसल कर दी गईं. पर जापान के स्टूडेंट लाइफ का यह अहम दिन होता है. स्टूडेंट्स की भावना समझते हुए जापान के टोक्यो की बिजनस ब्रेकथ्रू यूनिवर्सिटी ने अनूठा हाईटेक तरीका अपनाया....

चीनी कोरोना ने दुनिया में तबाही मचाई, अब वही बेच रहा है बचने के उत्पाद

वुहान. कोरोना के महायुद्ध में हर ओर हाहाकार मचा है. पूरी दुनिया डरी हुई है. करोड़ों लोग लॉकडाउन के बीच घरों में दुबके हुए हैं. दुनिया के 90 फीसदी देशों में कारोबार ठप हो चुका है. लेकिन इस बीच एक देश दिन-रात उन्नति कर रहा है. करोड़ों का नहीं, अरबों का नहीं, खरबों का निर्यात कर रहा है. दुनिया के टॉप 100 अरबपतियों की सूची में उस देश के कई उद्योगपतियों का नाम आ गया है. यह सब ऐसी चीज हैं जो सोचने को मजबूर करती है कि आखिर इस दुनिया में जब हर कोई रो रहा है तो चीन कैसे खुश है? चीन में लोग सड़कों पर घूमने लगे हैं. उत्पादन शुरू हो चुका है. होटल रेस्टोरेंट खुल गए हैं. चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग दौरे करने लगे हैं. देश के कई इलाकों में घूम कर उत्पादकों का हौसला बढ़ा रहे हैं. अमेरिका, स्पेन, इटली, ब्रिटेन, जापान, जर्मनी जैसे कई दिग्गज इस महामारी से मानो पस्त हो चुके हों. दवाइयां नहीं हैं. मास्क न...

कोरोना महामारी से निपटने को लेकर राजस्थान सरकार हुई सख्त, उठाए कई कड़े कदम

जयपुर. राजस्थान सरकार ने कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए प्रदेश के सभी 196 नगरीय क्षेत्रों (नगर निगम, नगरपालिका एवं नगर परिषद) और कृषि मण्डियों में मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है . अधिकारियों को जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, चूरू, टोंक, झुंझुनूं, बांसवाड़ा आदि जिलों में भीलवाड़ा मॉडल तुरंत लागू कर स्थिति को नियंत्रित करने के निर्देश दिए गए हैं. राजस्थान सरकार ने साफ कहा है कि कर्फ्यू वाले सभी 38 क्षेत्रों में इसकी सख्ती से पालना करवाई जाए. कर्फ्यू वाले क्षेत्र से कर्मचारी सहित कोई भी व्यक्ति अंदर या बाहर नहीं जाए. जयपुर में भट्टा बस्ती, अमृतपुरी, खो-नागोरियान, मोती डूंगरी रोड क्षेत्र, जहां घनी आबादी है, वहां रामगंज की तरह ही स्क्रीनिंग, टेस्टिंग सहित अन्य व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं. जयपुर में चारदीवारी के अलावा जिन जगहों पर कोरोना पॉजिटिव के मामले सामने आये हैं, वहां आस-पास के लोगों को हो...

कलयुग के साक्षात 'राम', डॉक्टर ने की वीडियो कॉल पर मां की अंत्येष्टि

जयपुर. कौन कहता है कि इस कलयुग में भगवान 'राम' नहीं हैं? वो आज भी इस दुनिया में हैं और अपना फर्ज अदा करने में कहीं पीछे नहीं हैं. बस इतना जरूर है कि वो अच्छे इंसान के रूप में इस दुनिया में हमें नज़र आते हैं. ऐसा ही एक नायाब उदाहरण पेश किया राजस्थान के जयपुर में कार्यरत डॉक्टर राममूर्ति ने. कोरोना से अपनों को बचाने में जुटे इस बेटे का दर्द शब्दों में बयां नहीं हो सकता. 93 साल की मां भोली देवी दुनिया में नहीं रही. जन्म देने वाली मां पर मातृभूमि का प्यार भारी पड़ा. कोरोना से जिंदगी की जंग लड़ रहे लोगों को भला अकेला कैसे छोड़ता ये बेटा? मां की अंत्येष्टि में नहीं जाने का पहाड़ सा फैसला किया. एक तरफ मरीजों की सेवा तो दूसरी तरफ आंसुओं को रोकते हुए वीडियो कॉल पर मां के अंतिम संस्कार में भागीदारी. जयपुर के SMS हॉस्पिटल में आइसोलेशन और आईसीयू के नर्सिंग इंचार्ज राममूर्ति मीणा करौली के ...

कोरोना संकटकाल में एक साल तक सांसदों का वेतन 30% कम करने को मंजूरी

कोरोना महामारी के बीच एक साल तक सांसदों का वेतन 30% कम करने को मंजूरी. अब PM सहित सभी मंत्री 30% कम वेतन लेंगे. सांसद निधि फंड भी 2 साल के लिए स्थगित. राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और राज्यपालों का वेतन भी 30% कम. सभी स्वेच्छा से 1 साल तक 30% कम वेतन लेंगे. केंद्रीय कैबिनेट ने लिया बड़ा फैसला. गौर करने वाली बात यह है कि भारत में जिस तरह से कोरोना संक्रमण पांव पसारता जा रहा है और जिस हिसाब से आने वाले भविष्य में और ज्यादा मजबूत तरीके से भारत को उसको रोकना होगा उस बीच यह एक महत्वपूर्ण कदम है. अभी देश में कोरोनावायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा. मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार को जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक मरीजों की संख्या ने चार हजार का आंकड़ा पार कर लिया है. भारत में कोरोनावायरस से अबतक 109 लोगों की मौत हो चुकी है और 4067 इसके संक्रमण के शिका...

कोरोना के खिलाफ चल रही जंग में मिथक तोड़ नायाब उदाहरण बन रहे निजी अस्पताल और चिकित्सक

मुंबई (ऋचा मिश्रा). कोरोना वायरस का खतरा इस कदर है कि सिर्फ सरकारी डॉक्टर और स्टाफ ही इससे दो-चार होते दिखाई दे रहे हैं. अधिकांश प्राइवेट अस्पताल ऐसे हैं जो संकट की इस घड़ी में दूर भाग खड़े हुए हैं. कोरोना का इलाज तो छोड़िए सामान्य रोगियों को देखने से भी कई चिकित्सकों ने मना कर दिया है. हालात यह है कि जिस वक्त देश को उनकी जरूरत है उस वक्त अस्पताल मलिक नदारद दिखाई दे रहे हैं. जबकि उन्होंने इसी देश के राज्य और केंद्र सरकारों से रियायती जमीनें, अन्य सुविधाएं भी ले रखी हैं. पर ऐसा नहीं है कि हर प्राइवेट अस्पताल या डॉक्टर ऐसा कर रहा है. कुछ ऐसे भी है जिन्होंने संकट की इस घड़ी में सरकार और जनता के लिए अपनी सेवा को समर्पित किया है. कहीं अस्पतालों द्वारा निशुल्क जरूरतमंदों के खाने की व्यवस्था की जा रही है तो कुछ अस्पतालों ने मरीजों की देखभाल और उनके दवाओं तक की भी निशुल्क व्यवस्था की है. अ...

देश के टॉप 25 IPS का सर्वे जारी, अरविंद कुमार, समंत कुमार, बीएल सोनी को मिला प्रमुख स्थान

नई दिल्ली. भारत में अपने प्रशंसनीय, बेहतर कार्यों और प्रयासों से लोगों में विश्वास कायम करने और पुलिस का जनता में विश्वास बढाने वाले टॉप 25 आईपीएस ऑफिसर्स की फेम इंडिया ने लिस्ट जारी की है. इस लिस्ट में कई दिग्गज अधिकारियों के नाम शामिल हैं, जिन्होंने अपने अपने क्षेत्र में सुरक्षा की भावना बढ़ाने, समाज में सौहार्द स्थापित करने और सकारात्मक संभावनाओं को मजबूत करने की निरंतर और ईमानदार कोशिश की. फेम इंडिया ने 25 उत्कृष्ट आईपीएस अधिकारियों 2020 का यह सर्वे उनकी कार्यशैली, ईमानदारी, कर्तव्यनिष्ठा, जज्बा, जागरूकता, कानून व्यवस्था, जनता से जुड़ाव, प्रभाव, छवि और कार्यकाल जैसे 12 मानदंडों पर किया गया है. खास बात यह है कि इस लिस्ट में जहां इंटेलिजेंस प्रमुख 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार को बेहद प्रभावशाली अधिकारी बताया गया है वहीं राजस्थान में तैनात 1988 बैच के एडीजी क्राइम बीएल सोनी (भगवान लाल...