Special

गहलोत की बसपा पर 'सर्जिकल स्ट्राइक', सभी छह विधायक बसपा छोड़ कांग्रेस में शामिल

'हाथी' नहीं हमारा साथी, अब हाथी नहीं 'हाथ' का साथ जयपुर. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को यूं ही राजनीति का जादूगर नहीं कहा जाता. यह खबर अशोक गहलोत के कसीदे पढ़ने के लिए नहीं लिखी जा रही है बल्कि जो सच है वो बताने के लिए लिखी जा रही है. राजनीति के इस जादूगर ने खुद को एक बार फिर गजब का गहलोत साबित करने में कोई कमी नहीं छोड़ी. यह सब उस वक्त होता है जब हर नेता की फर्स्ट चॉइज मोदीमय इंडिया में भाजपा के साथ काम करने की हो और कांग्रेसी अपना घर छोड़कर भाजपाई हो रहे हैं. ऐसे में अशोक गहलोत ने अपनी राजनीतिक परिपक्वता का परिचय देते हुए बहुजन समाज पार्टी के सभी छह विधायक कांग्रेस में शामिल कर लिए और खुद को देश की प्रधानमंत्री बनने का सपना देखने वाली मायावती को दूसरी बार बड़ा झटका दे दिया. बसपा के सभी छह विधायकों ने सोमवार रात अचानक अपनी पार्टी का राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस म...

आतंकी ओसामा का बेटा हमजा बिन लादेन भी ढेर, जानें 10 खतरनाक फैक्ट

वाशिंगटन. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दुनिया का सबसे बड़ी राहत की खबर दी है. व्हाइट हाउस से डोनाल्ड ट्रम्प ने अलकायदा के सरगना हमजा बिन लादेन की मौत पुष्टि कर दी है. आतंक का यह खौफनाक चेहरा ओसामा बिन लादेन का चहेता बेटा था. अगस्त माह की शुरूआत में भी हमजा के मौत की खबरें आई थीं. हमजा लादेन ने अमेरिका को धमकी दी थी कि वह अपने पिता की मौत का बदला लेगा. जिसके बाद डरा हुआ अमेरिका इसको मौत की नींद सुलाने के लिए दिन रात जुटा था. बताया जा रहा है कि वह पाकिस्तान में ही छुपा था जिसे हवाई हमले में ढेर कर दिया गया.  आतंकी हमजा से जुड़ी यह 10 बड़ी बातें- 1- हमजा 1989 में सऊदी अरब के जेद्दाह में पैदा हुआ था. वह 30 साल का था. 2011 में पाकिस्तान में अमेरिकी नेवी सील के उस अभियान में वह बच निकला था, जिसमें ओसामा बिन लादेन मारा गया था. इसी वक्त पाकिस्तान के एबटाबाद में अमेरिका के '...

हिंदी हैं हम, वतन है हिन्दोस्तां हमारा... हिंदी दिवस पर जानें 10 रोचक फैक्ट

भारत. 'मैं हिंदी बोलता हूं और हिंदी में पोस्ट करता हूं लेकिन मैं अनपढ़ नहीं हूं. ENGLISH केवल एक भाषा है, बुद्धिमान होने का सर्टिफिकेट नहीं.' सोशल मीडिया पर हिंदी भाषी होने पर गर्व करने वाले ऐसे कई मैसेज फॉरवर्ड कर रहे हैं और हिंदी भाषी होने पर गर्व भी जता रहे हैं. ऐसा हो भी क्यों नहीं क्योंकि हिंदी हैं हम, वतन है हिन्दोस्तां हमारा. राष्ट्रीय अस्मिता और गौरव का प्रतीक हिंदी ही है जो विविधताओं से भरे भारत को एकता के सूत्र में पिरोती है. देश के किसी भी नागरिक से अपने दिल और मन की बात अगर किसी भाषा में सहजता से की जा सकती है तो वो हिंदी है. राष्ट्रभाषा हिंदी देशवासियों को भावनात्मक एकता के सूत्र में पिरोती है, इसमें कोई दो राय नहीं. पर हिंदी को गहराई से जानने के लिए  आपके लिए कुछ रोचक बातें जानना भी जरुरी है. हिन्‍दी से जुड़े 10 रोचक फैक्ट- 1 - बात 1918 की है जब हिंदी साहित्य सम्मेलन म...

भोपाल में गणपति विसर्जन में नाव पलटी, 11 की मौत, हादसे से जुड़े 10 बड़े फैक्ट

1 - भोपाल (मध्यप्रदेश) में गणेश विसर्जन के दौरान दो नाव पलटने से 11 की मौत. 2 - प्रतिमा विसर्जित करते वक्त एक नाव पलटी तो लोग दूसरी पर कूद गए. संतुलन बिगड़ने के चलते दूसरी नाव भी डूब गई. 3- 6 लोगों को बचा लिया गया. किसी ने भी लाइफ जैकेट नहीं पहन रखी थी. सवार लोग 27-30 साल की उम्र के थे 4- भोपाल के खटलापुरा घाट पर शुक्रवार तड़के 4:30 बजे हादसा हुआ. 5- प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, दोनों नावें जुड़ी हुई थीं, जिन पर 20-25 लोग सवार थे. 6- मृतक पिपलानी के 100 क्वार्टर के रहने वाले थे. 7- मौके पर एसडीआरएफ की टीम, गोताखोर और पुलिस ने रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया. 8- जिस जगह घटना हुई, वहां पास ही मध्य प्रदेश होमगार्ड और राज्य आपदा बचाव दल (SDRF) का मुख्यालय है. 9- मृतकों के परिजनों को 11-11 लाख रु. का मुआवजा दिया. 10- दो नाविकों पर केस दर्ज किया गया, मामले की मजिस्ट्रियल जांच का आदेश ...

अब POK पर कुछ बड़ा करने की तैयारी, 10 फेक्ट से जानें क्या है POK विवाद

नई दिल्लीः अनुच्छेद 370 के बड़े फैसले के बाद अब मोदी सरकार पीओके पर कुछ बड़ा फैसला ले सकती है. केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के 100 दिन में जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करना सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि बताई. साथ ही साफ किया कि अगला एजेंडा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को भारत का अभिन्न हिस्सा बनाना है. जितेन्द्र सिंह के इस बयान के बाद पाकिस्तान में खलबली मची है तो दुनियाभर की नजरें भारत पर हैं. पीएम मोदी और अमित शाह के बाद मंत्री जितेन्द्र सिंह ने इस बात को दौहरा कर साफ कर दिया है कि अब पीओके (POK) में कुछ बड़ा होने वाला है. जितेंद्र सिंह ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के मुद्दे पर कहा 'यह केवल मेरी या मेरी पार्टी की प्रतिबद्धता नहीं है बल्कि यह 1994 में पीवी नरसिंह राव के नेतृत्व वाली तत्कालीन कांग्रेस सरकार द्वारा सर्वसम्मति से पारित संकल्प है...

अगला नम्बर अलगाववादी नेता यासिन मलित का, टाडा कोर्ट की सख्ती, कोर्ट में करो पेश

श्रीनगर. कश्मीर में अलगाववादियों की अब खैर नहीं. एक के बाद एक सख्त कदम सरकार उनके खिलाफ उठा रही है. पहले इनकी सुरक्षा हटाई गई, फिर अनुच्छेद 370 हटाते ही नजरबंद कर दिया गया और अब ऐसे अलगावादियों पर सरकार सख्त हो गई है जिनका आतंक और आतंकवादियों के साथ संबंध रहा है. कश्मीर में 1990 में भारतीय वायुसेना (IAF) के चार कर्मियों की हत्या के मामले में यासीन मलिक के खिलाफ जम्मू स्थित TADA कोर्ट में 1 अक्टूबर को सुनवाई होगी. इस समय मलिक नई दिल्ली की तिहाड़ जेल में कैद है. न्यायालय और सरकार के इस कदम के बाद 30 साल बाद मामले में न्याय मिलने की उम्मीद जगी है. हत्या के इस मामले में जेकेएलएफ के चीफ यासीन मलिक को जम्मू की टाडा अदालत में पेश किए जाने के आदेश दिए गए थे. बड़ी बात यह है कि यासीन मिलक पिछले तीन दशकों से टाडा अदालत में पेश होने से खुद को बचाता रहा है. पहले उसे दो बार पेश होने का आदेश दिया गया था, ...

महिला ने 'सांवलिया सेठ' को चढ़ावे के लिए नोटों की इतनी गडि्डयां निकाली की सबकी आंखे फटी रह गईं

चित्तौडगढ़ (राजस्थान). आराध्य देव अनूठे सांवलिया सेठ धाम (Sanwaliya Seth Temple) में तीन दिन परम्परागत मेला चला. इस मेले में देश-दुनिया से हजारों श्रद्धालु सांवलिया सेठ के दर्शन करने पहुंचे लेकिन एक महिला सबके आकर्षण का केन्द्र बन गई. दरअसल इस महिला ने जैसे ही अपने बैग से नोटों की गडि्डयां चढावे के लिए निकालनी शुरु की तो हर कोई हदप्रद हो गया. महिला एक के बाद एक नोटों की गडि्डयां निकालकर दानपात्र में डालती गई और लोग फटी आंखों से देखते रहे. आलम यह रहा कि मौके पर सुरक्षा कर्मियों को अलर्ट कर दिया गया. करीब सवा करोड़ का यह चढावा बताया जा रहा है और सुरक्षा कारणों से महिला कौन थी, किस घराने से ताल्लुक रखती है यह नहीं बताया गया. सोशल मीडिया पर भी महिला का वीडियो लगातार वायरल हो रहा है.   मान्यता के अनुसार यहां आने वाले भक्त सांवलिया सेठ को अपना बिजनेस पार्टनर भी मानते हैं और अपनी ...

World Suicide Prevention Day -2019, हर 40 सेकेंड में एक आत्महत्या, जानें 10 बड़े फेक्ट

भारत. कैफे कॉफी डे के मालिक वीजी सिद्धार्थ की आत्महत्या के बाद हाल में सवाल फिर उठ खड़ा हुआ कि आखिर वो कौन सी वजहें होती हैं, जिनसे लोग आत्महत्या करने तक का फैसला कर डालते हैं. आर्थिक स्थिति, व्यापार घाटा, मानसिक तनाव, अकादमिक परेशानियां, काम का अत्यधिक दबाव, रिलेशनशिप की उलझनें, पारिवारिक झगड़े, विवाहेत्तर संबंध आदि कुछ ऐसे कारण है जो दुनियाभर में आज सुसाइड का प्रमुख कारण बन गए हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनियाभर में प्रतिवर्ष लगभग 8,00,000 लोग आत्महत्या करते हैं, यानी प्रति 40 सेकेंड में एक व्यक्ति खुद की जान ले लेता है. सुसाइड यानी आत्महत्या की इसी गंभीर स्थिति से निपटने के लिए प्रतिवर्ष आत्महत्या रोकथाम दिवस भी मनाया जाता है ताकि जागरूकता बढ़ाई जा सके और सुसाइड के बढते आंकड़े को कम किया जा सके. गहरी निराशा की चरम अवस्था ही आत्महत्या के लिए प्रेरित करती है. अंग्...

अंतिम क्षण में चांद पर हिंदुस्तान का सम्पर्क टूटा, लेकिन ISRO के हौसले नहीं

बेंगलुरु. भारत के महत्‍वाकांक्षी मून मिशन Chandrayaan-2 का चांद पर लक्ष्य के ठीक नजदीक पहुंचते ही सम्पर्क टूट गया.  चांद पर उतरने को लेकर सस्‍पेंस बन गया. इसरो के मुताबिक विक्रम लैंडर से उनका संपर्क टूट गया. चांद से महज 2.1 किमी दूरी तक चंद्रयान-2 से संपर्क था, लेकिन फिलहाल संपर्क टूट गया. इसरो प्रमुख के सिवन ने बताया कि लैंडर 'विक्रम' को चंद्रमा की सतह पर लाने की प्रक्रिया सामान्य देखी गई, लेकिन बाद में लैंडर का संपर्क स्टेशन से टूट गया. डेटा का विश्लेषण किया जा रहा है. उधर मौके पर इसरो मुख्‍यालय में मौजूद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया. उन्‍होंने कहा, 'उतार-चढ़ाव आते रहते हैं, लेकिन यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है, देश आप पर गर्व करता है, सर्वश्रेष्ठ की उम्मीद करें, हौसला रखें. हमें उम्मीद है, अपने अंतरिक्ष कार्यक्रम में हम कठिन परिश...

दुआ करो की आज 'चांद पर हिंदुस्तान हो', मिशन चन्द्रयान-2 की लैंडिंग से जुड़ी 10 बड़ी बातें

बेंगलुरु. चांद पर हिंदुस्तान की ताकत देखने के लिए पूरी दुनिया टकटकी लगाए देख रही हैं. चांद के दक्षिणी ध्रुव चन्द्रयान-2 को उतारने की तैयारियां पूरी कर ली है. बड़ी बात यह है सबकुछ ठीक रहा तो भारत ऐसा करने वाला दुनिया का पहला देश बन जाएगा. हालांकि रूस, यूएस और चीन इसके उत्तर में पहले यान उतार चुके हैं लेकिन चांद के दक्षिण में यान को उतारने वाला भारत पहला देश होगा. चंद्रयान-2 मिशन के शनिवार को चांद पर उतरने के अत्यंत महत्वपूर्ण घटनाक्रम से पहले इसरो के साथ देशवासियों के मन में तमाम तरह के भाव उमड़ रहे हैं और यहां सभी भारतीय चंद्रयान-2 के चंद्रमा पर सफलतापूर्वक उतरने के लिए प्रार्थना कर रहे हैं ताकि भारत दुनिया के सामने अपनी ताकत को साबित कर सके और मिशन चन्द्रयान में भारत झंडा गाड़ सके. इस मिशन में रोवर को प्रज्ञान और लैंडर को विक्रम का नाम दिया गया है. बडी बात यह है कि चांद का दक्षिणी ध्रुव क्...