Special

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, उन्नति के लिए श्रीकृष्ण के जीवन से लें यह 10 बड़ी प्रेरणा

भारत. पूरे देश और दुनिया में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी आयोजन धूमधाम से मनाया जा रहा है. श्रद्धा का सेलाब उमड़ा दिखाई दे रहा है. मंदिरों में श्रीकृष्ण के दर्शनों के लिए भक्तों का तांता भक्तिमय माहौल के बीच नजर आ रहा है. लेकिन क्या आप जानते हैं हम भगवान श्रीकृष्ण के जीवन से बहुत कुछ सीख सकते हैं, उन्हें रियल मैनेजमेंट गुरु भी कहा जाता है, जिनके सिद्धांत और सोच हम सबको आत्मसात करने की जरुरत है. सतयुग में शिव, त्रेता में राम, द्वापर में श्रीकृष्ण और कलिकाल में भगवान बुद्ध हिन्दू धर्म के केंद्र में हैं, लेकिन श्रीकृष्ण के धर्म को भूत, वर्तमान और भविष्य का धर्म बताया गया है. श्रीकृष्ण का जीवन ही हर तरह से शिक्षा देने वाला है. महाभारत और गीता विश्‍व की अनुपम कृति है. महाभारत में देश, धर्म, न्याय, राजनीति, समाज, योग, युद्ध, परिवार, ज्ञान, विज्ञान, अध्यात्म, तकनीकी सहित कई विषयों का विस्तार से वर्णन...

भारत भी मंदी की चपेट में, वित्त मंत्री ने कही यह 10 बड़ी बातें

नई दिल्ली.अमेरिका और चीन के ट्रेड वॉर के बीच जर्मनी सहित कई बड़े देश मंदी की चपेट में आ गए हैं. हालांकि पहले सरकार का दावा रहा कि इसका असर भारत पर नहीं होगा लेकिन अब स्थितियां कुछ अलग बन गई हैं. खुद भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने माना कि भारत भी इस मंदी की चपेट में आ गया है, हालांकि चीन, अमेरिका और यूरोपीय देशों की तुलना में भारत की अर्थव्यवस्था बेहतर कर रही है. अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध तथा मुद्रा अवमूल्यन के चलते वैश्विक व्यापार में काफी उतार-चढ़ाव वाली स्थिति पैदा हुई है. वित्त मंत्री ने अर्थव्यवस्था को बूस्ट करने, कारोबार को आसान करने और इंडस्ट्री को राहत देने के लिए कई घोषणाएं की है. कैपिटल गेन टैक्स से बढ़ाया गया सरचार्ज हटाने से लेकर, ईएमआई कम करने, जीएसटी रिफंड 30 दिन में करने जैसी कई राहत इंडस्ट्री को दी है. निर्मला सीतारमण ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वैश्विक डिमा...

फ्रांस में भी गूंजा 'मोदी-मोदी', जानें PM ने कौनसी 10 बड़ी बातें कहीं

पेरिस (फ्रांस). जी-7 सम्मेलन में हिस्सा लेने फ्रांस पहुंचे दुनिया के ताकतवर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज भारतीय समुदाय को संबोधित किया. 2019 के लोकसभा चुनाव में जबरदस्त जीत के बाद प्रधानमंत्री ने पहली बार प्रवासी भारतीयों को संबोधित किया. मोदी के मन की बात के दौरान उन्होने जहां आतंकवाद, भ्रष्टाचार, ट्रिपल तलाक, आर्थिक विकास जैसे मुद्दों पर अपनी बात रखी वहीं आने वाले पांच साल के विजन को सबके सामने रखा. पेरिस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यहां पर फुटबॉल को पसंद किया जाता है, उससे गोल का महत्व भी बढ़ता है. मैंने भी अपनी सरकार के लिए कुछ गोल रखे हैं, जिन्हें हम आगे पूरा करेंगे. हमने ऐसे कई गोल पूरे किए हैं जो नामुमकिन माने जाते थे. उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन से पहले यहां पर एक स्मारक का उद्घाटन किया गया है. ये स्मारक एयर इंडिया के दो दुर्घटनाग्रस्त विमानों की याद में ...

हथियारों की होड़ में वर्ल्ड वॉर की ओर बढ़ रही महाशक्तियां, अमेरिका के खिलाफ रूस और चीन!

वाशिंगटन. क्या दुनिया एक बार फिर वर्ल्ड वॉर की ओर आगे बढ रही है? क्या बारुद के ढेर पर दुनिया में कभी भी युद्ध की आग सुलग सकती है. एक तरफ अमेरिका और चाइना सहित दुनिया के कई देशों में चल रहा ट्रेड वॉर किसी से छुपा नहीं है वहीं अब हथियारों की होड़ ने इस जंग को हवा दे दी है. अमेरिकी रक्षा विभाग ने सोमवार को घोषणा की थी कि उसने जमीन से दागी जाने वाली एक मिसाइल का परीक्षण किया है, जो 1987 के INF समझौते के तहत प्रतिबंधित थी. दरअसल, यह समझौता परमाणु और मध्यम दूरी के पारंपरिक हथियारों के इस्तेमाल को सीमित करता है. यह समझौता जमीन से दागी जाने वाली 500 से 5,500 किमी की दूरी तय करने वाली सभी मिसाइलों को प्रतिबंधित करता था, ताकि परमाणु हथियारों से तत्कालीन यूरोप को बचाया जा सके. इस मिसाइल का परीक्षण कैलिफोर्निया तट से किया गया. अमेरिका के इस कदम दो अन्य महाशक्तियां खफा हो गईं, रूस और चीन ने मंगलवार को ...

देश कर रहा है पूर्व पीएम स्व. राजीव गांधी को नमन्, जानिए उनके जीवन से जुड़ी 10 बड़ी बातें

नई दिल्ली. राजीव गांधी की 75वीं जयंती पर पूरे देश में आयोजन हो रहे हैं। पूरा देश एक ऐसे देशभक्त और दूरदर्शी व्यक्ति को याद कर रहा है जिनकी दूरदर्शी नीतियों ने भारत के निर्माण में मदद की। 40 की उम्र में देश के सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री बने राजीव गांधी आज भी युवाओं के लिए किसी बड़ी प्रेरणा से कम नहीं हैं राजीव गांधी का जन्म 20 अगस्त 1944 में मुंबई में हुआ। जब भारत को अंग्रेजी शासन की गुलामी से आजादी मिली तो उनकी उम्र महज तीन साल थी। देश आज़ाद हुआ और राजीव गांधी के नाना यानी जवाहर लाल नेहरू आजाद भारत के पहले प्रधानमंत्री बने। राजीव गांधी के पिता का नाम फिरोज गांधी और माता का नाम इंदिरा गांधी था। उनका बचपन दिल्ली के तीन मुर्ति भवन में बीता। राजीव गांधी के जीवन से जुड़ी दस बड़ी बातें- 1- राजीव गांधी का जन्म 20 अगस्त 1944 को मुंबई में हुआ। भारत की स्वतंत्रता के समय वह मात्र 3 वर्ष के थे...

अफगानिस्तान के पूर्व PM करजई की मोदी से मुलाकात

नई दिल्ली : अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की. दोनों के बीच यह शिष्टाचार मुलाकात थी, हालांकि इस दौरान दोनों देशों में चल रहे राजनीतिक हालातों पर भी बातचीत हुई. आपको बात दें कि अनच्छेद 370 हटाए जाने के बाद करजई ने कहा था कि 'देश को उम्मीद है कि भारत सरकार के नये कदम से जम्मू कश्मीर के लोगों की उन्नति होगी और खुशहाल होंगे.' करजई ने इस दौरान पाकिस्तान से क्षेत्र में नीति के एक साधन के रूप में चरमपंथी हिंसा का इस्तेमाल बंद करने के लिए भी कहा था. करजई का बयान तब आया जब केंद्र सरकार ने संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू कश्मीर को प्राप्त विशेष दर्जा वापस ले लेते हुए राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया. इसके बाद करजई का यह बयान काफी महत्वपूर्ण और भारत के हित में रहा. अफगानिस्तान के 2001 से 2014 तक राष्ट्रपति रहे करजई ...

राजस्थान के हुए 'मनमोहन', निर्विरोध राज्यसभा सांसद निर्वाचित

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह राजस्थान से निर्विरोध राज्यसभा सांसद चुन लिए गए हैं. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की जादुई रणनीति का ही परिणाम रहा कि मनमोहन सिंह को निर्विरोध राज्यसभा सांसद बनाया जा सका. मनमोहन सिंह लगभग तीन दशकों से असम से कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य रहे हैं. उनका कार्यकाल 14 जून को समाप्त हो चुका है. ऐसे में अब राजस्थान से राज्यसभा सांसद चुने जाने के बाद मनमोहन सिंह 3 अप्रैल, 2024 तक राज्यसभा सदस्य रहेंगे. पिछले दो दशक में मनमोहन सिंह राष्ट्रीय स्तर के आठवें नेता हैं, जो राजस्थान के मूल निवासी नहीं होने के बावजूद यहां से चुनकर राज्यसभा पहुंचे हैं. पिछले दो दशकों में राजस्थान में हर पांच सालों में सरकार बदलती रही है, जिसमें तीन बार कांग्रेस की और दो बार भाजपा की सरकारें बनी. 2008 को छोड़ इस दौरान सत्ता में रहने वाली पार्टी को स्पष्ट बहुमत मिला है. इसी के चलते पिछले दो...

क्यों है मोदी का नेतृत्व करिश्माई? किन 10 बड़े कारणों से आज उनकी लोकप्रियता है चरम पर, जानिए

नई दिल्ली. आज न केवल देश में बल्कि पूरी दुनिया में एक बहस छिड़ी है कि क्या नरेंद्र मोदी आजाद भारत के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री बन चुके हैं? चाहे बात मोदी के काम करने के तरीके की हो या बोल्ड डिसीजन लेने का तरीका, या फिर बात हो उनके भाषण शैली की. उनकी लोकप्रियता हर स्तर पर चरम पर है. हाल में आज तक चैनल और कार्वी इनसाइट ने अपने सर्वे में पाया कि नरेंद्र मोदी भारत के सबसे लोकप्रिय नेताओं में शुमार है. उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को भी अपने पीछे छोड़ दिया है. पर ऐसे क्या 10 बड़े कारण हैं, जो मोदी की लोकप्रियता को इस तरह से चरम पर पहुंचाएं हुए हैं. देश के जाने-माने राजनीतिक विश्लेषक सुभद्र पापड़ीवाल ने क्या 10 कारण मोदी की लोकप्रियता के बताए हैं जानिए. "नरेंद्र मोदी की सफलता के 10 प्रमुख कारण" 1- कृषि क्षेत्र में फ़सल बीमा योजना, यूरिया नीम कोटिंग, सोईल हैल्थ कार...

पाकिस्तान की नापाक हरकत. सेना के पूर्व अधिकारी की ट्विटर आईडी की हैक.

पाकिस्तान ने अपने तय मिशन के तहत भारत में फर्जी तरीके से भारतीय सेना को बदनाम करने की साजिश शुरू कर दी है. इसका बड़ा उदाहरण राजधानी जयपुर में देखने को मिला. जहां पर सेना के पूर्व कर्नल विजय आचार्य के Twitter account हैक होने का मामला सामने आया है. कर्नल विजय आचार्य ने हालांकि इसकी शिकायत तुरंत Twitter को कर दी है और सेना के उच्चाधिकारियों को भी जानकारी दे दी है. लेकिन बड़ी बात यह है कि विजय आचार्य की आईडी हैक भारतीय सेना को बदनाम करने का काम पाकिस्तानी सेना और पाकिस्तानी हैकर पूरी मुस्तैदी से कर रहे हैं. हालांकि भारतीय भी इस बात का मुंहतोड़ जवाब उनको डिजिटल मीडिया के माध्यम से ही दे रहे हैं. कर्नल आचार्य का कहना है पाकिस्तान भारत से सीधे युद्ध में कभी नहीं जीत सकता और आज भले ही वह सेना से रिटायर हो गए हो लेकिन अभी भी उन्हें मौका मिलता है तो पाकिस्तान की सेना को जवाब देने के लिए तैयार है. उ...

रक्षाबंधन पर भाइयों ने दिया शहीद की पत्नी को 10 लाख का मकान, हथेली पर गृह प्रवेश करा कर दिया सम्मान

मध्यप्रदेश.भारत देश में शहीदों के प्रति लोगों के मन में कितना श्रद्धा भाव और सम्मान है इसका एक बड़ा उदाहरण मध्यप्रदेश में देखने को मिला. जहां स्थानीय युवाओं ने मिलकर शहीद की पत्नी को उपहार में दस लाख का मकान बनवाकर दिया. बड़ी बात यह रही कि शहीद की पत्नी लंबे समय से कच्चे मकान में रह रही थी. यह सब इन युवाओं के एक दल से देखा नहीं गया और उन्होंने निश्चय किया कि अपने दम पर पैसे एकत्र कर एक नया मकान बनाकर शहीद की पत्नी को देंगे. बस फिर क्या था मकान बना दिया और हथेली पर गृह प्रवेश शहीद की पत्नी को कराया गया. इससे साफ जाहिर होता है कि भारतीयों के मन में शहीदों के प्रति कितना सम्मान है. कितना समर्पित भाव से वह उनके लिए हमेशा तैयार रहते हैं. इंदौर के देपालपुर क्षेत्र के युवाओं ने मिलकर यह कारनामा कर दिखाया है जिसमें रक्षाबंधन के मौके पर शहीद मोहनलाल सुनेर की पत्नी को यह घर गिफ्ट में दिया गया. शहीद ...