India

राजस्थान सरकार उत्कल रंजन साहू को बनाया डीजीपी 

जयपुर। राजस्थान सरकार ने एक और महत्वपूर्ण नियुक्ति करते हुए वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी उत्कल रंजन साहू को राजस्थान का नया डीजीपी बनाया है। इससे पहले राजस्थान के कार्यवाहक डीजीपी का प्रभार संभाल रहे थे। बता दें कि डीजीपी उमेश मिश्रा द्वारा वीआरएस लेने के बाद उत्कल रंजन साहू को ये जिम्मेदारी सौंपी गई थी। उसके बाद आज उनकी स्थाई नियुक्ति के आदेश जारी कर दिए गए।  उत्कल रंजन साहू 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। वह मूल रूप से ओडिशा के रहने वाले हैं। उन्हें जून 2020 में डीजी रैंक पर पदोन्नत किया गया था। डीजीपी यूआर साहू ने कहा था कि राजस्थान सरकार की प्राथमिकताएं ही राजस्थान पुलिस की प्राथमिकताओं में शामिल है। राज्य सरकार की तमाम प्राथमिकताओं को पुलिस पूरा करेगी।  उन्होंने कहा कि प्रदेश में गैंगस्टर्स के बढ़ते नेटवर्क को तोड़ने के लिए पुलिस पूरी मुस्तैदी से काम करेगी। इसके अलावा प्रदेश ...

यूडीएच प्रमुख शासन सचिव टी.रविकांत ने किया झोटवाडा आरओबी, IPD टावर, जवाहर सर्किल पर सौंदर्यीकरण कार्यों एवं बी-2 बाईपास ट्रेफिक जंक्शन का निरीक्षण

जयपुर। राजस्थान सरकार के नगरीय विकास विभाग के प्रमुख शासन सचिव टी. रविकांत लगातार एक्टिव बने हुए हैं। पद संभालने के साथ ही प्रदेश के चहुंमुखी विकास को लेकर गंभीर टी. रविकांत ने शनिवार को राजधानी जयपुर में अधूरे पड़े विकास कार्यों को गति देने और जल्द से जल्द पूरा करने के लिए शहर का जायजा लिया। जेडीसी मंजू राजपाल के साथ झोटवाडा आरओबी, आईपीडी टावर, जवाहर सर्किल पर सौंदर्यीकरण कार्यों एवं बी 2 बाईपास ट्रेफिक जंक्शन का निरीक्षण किया।  झोटवाडा आरओबी एवं जवाहर सर्किल पर सौंदर्यीकरण कार्यों का लोर्कापण जल्द किया जायेगा। प्रमुख शासन सचिव - यूडीएच  एवं जेडीसी ने झोटवाड़ा आरओबी का निरीक्षण किया। उन्होंने झोटवाड़ा आरओबी की प्रगति के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त की। उन्होंने अधिकारियों को त्वरित गति से प्रोजेक्ट पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने आईपीडी टावर की 13वी मंजिल से प्रोज...

दूध की गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं- पशुपालन एवं डेयरी मंत्री

जयपुर। पशुपालन एवं डेयरी मंत्री श्री जोराराम कुमावत ने कहा कि राजस्थान राज्य की सहकारी डेयरियों में उत्पादित सरस दूध की गुणवत्ता ही इसकी पहचान है और इससे कोई समझौता नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नव गठित सरकार की पहली प्राथमिकता राज्य भर की सहकारी डेयरियों से जुड़े दुग्ध उत्पादकों का सामाजिक एवं आर्थिक उत्थान है और इसके लिए नई कल्याणकारी योजनाएं अमल में लाई जाएंगी। ग्रास रूट लेवल तक दुग्ध उत्पादकों को सहकारी डेयरियों से जोड़ने के प्रयास किए जाएंगे और अधिक से अधिक संख्या में नई प्राथमिक दंग्ध उत्पादक सहकारी समितियों का गठन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरस ब्रांड को न केवल राजस्थान बल्कि पड़ोसी राज्यों में भी लोकप्रिय बनाने के लिए संयुक्त प्रयास किए जाने चाहिए। मंत्री श्री कुमावत शुक्रवार को सरस संकुल मुख्यालय में राज्य भर की सहकारी डेयरियों के निर्वाचित अध्यक्षों के साथ आयोजित प...

लापरवाही पर यूडीएच डिपार्टमेंट के प्रमुख शासन सचिव टी. रविकांत का सख्त एक्शन, 7 जिलों के सचिवों को थमाए नोटिस

- नगरीय विकास विभाग के प्रमुख शासन सचिव श्री टी. रविकांत ने राज्य के प्राधिकरणों एवं न्यासों की ली बैठक - ऑनलाईन नागरिक सेवाओं पर दिया जोर - राजस्व अर्जित करने के लिए विशेष प्रयास करने के दिये निर्देश जयपुर। नगरीय विकास, आवासन एवं स्वायत्त शासन विभाग के प्रमुख शासन सचिव टी. रविकांत की अध्यक्षता में बुधवार को शासन सचिवालय से प्राधिकरणों/न्यासों/आवासन मण्डल/जयपुर मैट्रो/रैरा/नगर नियोजन इत्यादि संस्थाओं की वी.सी. से विभागीय समीक्षा बैठक ली। प्रमुख शासन सचिव ने अधिकारियों को शहरी संस्थाओं की आमजन में छवि सुधारने की आवश्यकता बताते हुए आम नागरिक से जुड़ी सेवाओं पर अधिकारी/कर्मचारियों को फोकस करने के निर्देश दिए। समस्त अधिकारियों को निर्देश दिए कि वर्तमान में प्रगतिरत प्रोजेक्ट्स/विकास कार्य समय सीमा में ही पूर्ण करें। इस हेतु निर्धारित कार्य योजना तैयार कर विभाग के प्रमुख स्वयं के स्तर...

जानें कौन हैं राजस्थान के मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव बने वरिष्ठ आईएएस आलोक गुप्ता

जयपुर। राजस्थान में भाजपा की सरकार प्रमुख पदों पर एक-एक अफसर को बहुत ही सोच समझकर जिम्मेदारियां सौंप रही है। निर्विवाद और काबिल अफसरों को बेहतर मौके देने में कोई कसर नहीं छोड़ रही। ताकि मोदी के मिशन-2024 को पूरा करने में कोई बाधा ना आए। यही कारण है कि राजस्थान के मुख्य सचिव पद पर सुधांश पंत, सीएम के अतिरिक्त मुख्य सचिव पद पर शिखर अग्रवाल जैसे काबिल अफसरों की नियुक्ति के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री की कोर टीम में एक और डायनेमिक ऑफिसर की एंट्री हो गई है। राजस्थान के मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव जैसे महत्वपूर्ण पद पर भी एक निर्विवाद, ऊर्जावान, रिजल्ट ओरिएंटेड, नवाचारों के लिए पहचाने जाने वाले वरिष्ठ आईएएस अधिकारी आलोक गुप्ता को लगाया गया है। 1996 बैच के आईएएस आलोक गुप्ता के संबंध में कार्मिक विभाग ने आदेश जारी कर दिए हैं। अब सीएमओ की टीम लगभग तय हो चुकी है।  हालांकि हाल ही में आई ...

यह बजट निरंतरता का विश्वास लिए है, यह बजट युवा भारत की आकांक्षाओं का प्रतिबिंब है: PM

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज पेश किए गए बजट की सराहना करते हुए इसे ''केवल एक अंतरिम बजट नहीं बल्कि एक समावेशी और प्रगतिशील बजट बताया।'' प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा, ''यह बजट निरंतरता का विश्वास लिए हुए है।'' प्रधानमंत्री ने कहा, ''यह बजट विकसित भारत के सभी स्तंभों - युवाओं, गरीबों, महिलाओं और किसानों को सशक्त बनाएगा।'' प्रधानमंत्री मोदी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की दूरदर्शिता की सराहना करते हुए कहा, "निर्मला जी का बजट देश के भविष्य के निर्माण का बजट है।" उन्होंने कहा, "यह बजट 2047 तक विकसित भारत की नींव को मजबूत करने की गारंटी देता है।" प्रधानमंत्री मोदी ने टिप्पणी की, "यह बजट युवा भारत की आकांक्षाओं का प्रतिबिंब है।" उन्होंने बजट में लिए गए दो महत्वपूर्ण फैसलों पर प्रकाश डालते हुए कहा, &qu...

जयपुर विकास प्राधिकरण में सुशासन की स्थापना एवं फाईल मैनेजमेंट को सुगम बनाने के लिए 8 फरवरी से समस्त कार्य होगें ई-फाईलिंग के माध्यम से

जयपुर। जयपुर विकास आयुक्त मंजू राजपाल की अध्यक्षता में सोमवार को जेडीए के मंथन सभागार में सुशासन की स्थापना एवं फाईल मैनेजमेंट को सुगम बनाने के लिए डिजीटलाईजेशन हेतु राज-काज (ई-फाइलिंग) के संबंध में बैठक संपन्न हुई। जेडीसी ने बताया कि प्राथमिकता के आधार पर फाइलों को राज-काज (ई-फाइलिंग) हेतु श्रेणीवार कर कार्य प्रारम्भ किया जाये। उन्होंने निर्देश दिये कि 8 फरवरी, 2024 के बाद सभी पत्रावलियॉ (फाईल्स) राज-काज (ई-फाइलिंग) के माध्यम से ही प्रेषित की जायें। उन्होंने राज-काज (ई-फाइलिंग) को चार श्रेणी (ए, बी, सी, डी) में बांटते हुए श्रेणी ए एवं बी की पत्रावलियों को तुरंत प्रभाव से ऑनलाईन करने के निर्देश दिये। उन्होंने बताया इसके बाद फाईल्स पूर्णतः ऑनलाईन ही राज-काज के माध्यम से प्रेषित की जायेंगी। इसके अतिरिक्त पुरानी पत्रावलियों के साथ-साथ समस्त तरह की नवीन पत्रवालियॉ ऑनलाईन ही प्रेषित की जायें...

केन्द्र, राजस्थान और मध्यप्रदेश सरकार के मध्य एम.ओ.यू. पर हुए हस्ताक्षर, शीघ्र धरातल पर उतरेगी ईआरसीपी

- नई दिल्ली में केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री के समक्ष डीपीआर बनाने पर सहमति - राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री भजनलाल शर्मा और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव रहे उपस्थित - राज्य के 2.80 लाख हैक्टेयर क्षेत्र में मिलेगा सिंचाई जल, 25 लाख किसान परिवार होंगे लाभान्वित - प्रदेश की 40 प्रतिशत आबादी की बुझेगी प्यास - दोनों राज्यों के विकास के लिए मील का पत्थर साबित होगी परियोजना  दिल्ली/जयपुर, 28 जनवरी। राजस्थान और मध्यप्रदेश के लाखों लोगों के लिए बहुप्रतिक्षित पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ईआरसीपी) शीघ्र ही मूर्तरूप लेगी। केन्द्र, राजस्थान और मध्यप्रदेश सरकार के बीच परियोजना की संयुक्त डीपीआर बनाने के लिए श्रम शक्ति भवन, नई दिल्ली में रविवार को त्रिपक्षीय एमओयू पर हस्ताक्षर हुए। केन्द्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा और मध्यप्रदेश क...

75 वां गणतंत्र दिवस समारोह हर्षोल्लास के साथ समारोह पूर्वक मनाया गया

जयपुर। प्रदेश में 75 वां गणतंत्र दिवस समारोह शुक्रवार को हर्षोल्लास के साथ समारोह पूर्वक मनाया गया। जिला मुख्यालयों पर आयोजित समारोह में उप मुख्यमंत्रियों, मंत्री परिषद के सदस्यों, संभागीय आयुक्तों एवं जिला कलक्टर्स द्वारा ध्वज फहराने के बाद मार्च पास्ट की सलामी ली गई तथा स्कूली छात्र-छात्राओं द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये। इस अवसर पर उल्लेखनीय सेवाओं के लिए अधिकारियों-कर्मचारियों व समाजसेवी लोगों को सम्मानित भी किया गया।   दूदू- जिले में उप मुख्यमंत्री सुश्री दिया कुमारी के मुख्य आतिथ्य में गणतंत्र दिवस समारोह राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय दूदू के खेल मैदान में हर्षाेल्लास से मनाया गया। जिला स्तरीय समारोह में उप मुख्यमंत्री ने ध्वज फहरा कर परेड की सलामी ली। इसके बाद अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री रतनलाल योगी ने राज्यपाल का संदेश पठन किया। गणतंत्र दिवस समार...

विधानसभा में पूर्ववर्ती गहलोत सरकार पर बरसे सिविल लाइंस विधायक गोपाल शर्मा, भ्रष्टाचार और बेलगाम अपराध के लिए घेरा

विधानसभा में बोले- जब गहलोत पहली बार सीएम बने तो उनकी एक आवाज पर बांग्लादेशी जयपुर छोड़कर चले गए थे, लेकिन बाद में उनकी सरकार का इकबाल खत्म हो गया, याददाश्त कमजोर हो गई। गहलोत को अपने साथी नकारा और निकम्मे नजर आने लगे। जयपुर। राजस्थान विधानसभा में बुधवार का दिन काफी हंगामेदार रहा। राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर बोलते हुए सिविल लाइंस विधायक गोपाल शर्मा ने अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार पर तीखा हमला किया। पहली बार विधानसभा में बोलते हुए गोपाल शर्मा ने प्रतिपक्ष को याद दिलाया कि गहलोत पहली बार सीएम बने तो उनकी एक आवाज पर बांग्लादेशी जयपुर छोड़कर चले गए थे। लेकिन बाद में उनकी सरकार का इकबाल खत्म हो गया, याददाश्त कमजोर हो गई। गहलोत को अपने साथी नकारा और निकम्मे नजर आने लगे। सिविल लाइंस विधायक गोपाल शर्मा ने कहा कि गहलोत सरकार ने राजस्थान को महिला अपराध में न...