Technology

ब्लॉक होंगे ये 52 चीनी मोबाइल एप्स! सीमा विवाद के बाद प्लानिंग तेज़.

नई दिल्ली. भारतीय सेना और चीन की लद्दाख के गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद भारत एक्शन के मूड में आ गया है. अब चीन से जुड़े हुए मोबाइल एप भी भारत में बैन किए जाने की तैयारियां है. इंटेलिजेंस के सूत्रों की माने तो भारत को सुरक्षा कारणों से इन एप से दूर रहने की नसीहत दी गई है. इससे जुड़ा प्रस्ताव भी केंद्र सरकार को इंटेलिजेंस ने दिया है. इसमें कई ऐसे ही चाइनीज एप हैं जो भारत की सुरक्षा के लिहाज से भी खतरनाक है. वहीं इनके जरिए भारतीयों का डेटा चोरी किया जा रहा है. इनमें Tiktok, like, UC browser, Mi Community, Mi Store, Mi Video call-Xiaomi, Clean master जैसे कई एप शामिल हैं. उधर सरकार चाहती है कि इनको सरकारी स्तर पर बैन करने के बजाय खुद लोग ही अपने स्तर पर इस्तेमाल करना बंद कर दें. हालांकि सरकार की तरफ से अब तक इन एप्स को ब्लॉक करने या न यूज करने को लेकर कोई ऑफिशियल स्टेटमेंट जारी नहीं ...

चीन ने दुनिया की पहली 3D न्यूज़ एंकर लॉन्च की, कोरोना संकट के बीच बड़ा धमाका

बीजिंग. दुनिया को अक्सर अपनी उपलब्धियों, अपनी हरकतों और अपनी चालबाजियों से अचंभित कर देने वाले चीन ने एक बार फिर दुनिया में अलग तरह का धमाका किया है. इस बार चीन ने धमाका दुनिया की पहली 3D न्यूज़ एंकर लांच करके किया है, जिसको दुनियाभर में बड़ी ही उत्सुकता के साथ देखा जा रहा है, सुना जा रहा है, और चीन की इस तकनीक की तारीफ तक भी की जा रही है. कुछ लोगों का यह भी मानना है कि चीन ने कोरोना महामारी के बीच उसकी खराब हुई छवि से ध्यान हटाने के लिए यह सब किया है. चीन में एक न्यूज एजेंसी की ओर से लांच यह आर्टिफिशियल इंटलीजेंस से चलने वाली 3D एंकर आम एंकर की तरह ही हिल डुल सकती है. तो खबरों के मुताबिक अपने हाव-भाव भी बदलने में माहिर है. बोलने में फर्राटेदार मंझी हुई न्यूज़ एंकर जैसी लगने वाली इस 3D एंकर को एक असल पत्रकार के रूप और हाव भाव की क्लोनिंग कर तैयार किया गया है. यह आभासी होते हुए भी अस...

घातक जहर और जैविक बम बनाने वाली इजरायल की सीक्रेट लैब ने तैयार की कोरोना वैक्सीन

इजरायल. दुनिया के लिए इस वक्त की सबसे बड़ी खबर आई है. खबर भी ऐसी की जिसको सुनने को पूरी दुनिया बेताब है. दुनिया की महाशक्तियां अब तक इस काम में पस्त नजर आई हैं और कोई सफलता अभी तक नहीं मिली है वहीं इजरायल ने कोरोना वायरस का टीका बना लेने का बडा दावा किया है और जल्द ही इसका पेटेंट कराने की बात कही है. कोरोना वायरस महासंकट के बीच इजरायल के रक्षा मंत्री नफताली बेन्‍नेट ने यह दावा करते हुए कहा कि 'देश के वैज्ञानिकों ने इस महामारी का टीका बना लिया है. रीसर्च इंस्‍टीट्यूट ने कोरोना के एंटीबॉडी को तैयार करने में बड़ी सफलता हासिल की है. कोरोना वैक्‍सीन के विकास का चरण पूरा हो गया है, अब हम उत्‍पादन के लिए तैयारी कर हैं.' हालांकि मंत्री ने अपने बयान में यह नहीं बताया कि क्‍या इस वैक्‍सीन का इंसानों पर ट्रायल किया गया है या नहीं. पर इजरायल का यह दावा पू...

हाईटेक जापान, कोरोना संकट में स्टूडेंट्स का रूप धर डिग्री लेने पहुंचे रोबोट्स!

जापान. कोरोना के आतंक से दुनिया संकट में है. जापान भी इससे अछूता नहीं है. चीन का पड़ोसी होने से जापान को बड़ा खतरा है. पर जापान को दुनिया इस लिहाज से जानती है कि देश छोटा जरुर है लेकिन हौसले बहुत बड़े हैं. खत्म हो जाने के बाद फिर से खड़ा होना जापान से सीखा जा सकता है. हिरोशिमा और नागासाकी पर हमले के बावजूद खत्म हो चुके जापान ने विश्व के सामने जो उदाहरण पेश किया वो किसी से छुपा नहीं है. अक्सर जापान ऐसे कई उदाहरण पेश कर चुका है जो वहां की तकनीक और हौसलों के जरिए दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचता है. ताजा मामला कोरोना के दुनियाभर के साथ जापान में फैले आतंक का है. जापान में कोरोना वायरस के चलते स्प्रिंग ग्रैजुएशन सेरिमनी कैंसल कर दी गईं. पर जापान के स्टूडेंट लाइफ का यह अहम दिन होता है. स्टूडेंट्स की भावना समझते हुए जापान के टोक्यो की बिजनस ब्रेकथ्रू यूनिवर्सिटी ने अनूठा हाईटेक तरीका अपनाया....

कोरोना महामारी के बीच चीन और अमेरिका से आई अच्छी खबर! सबकुछ ठीक रहा तो...

वुहान/न्यूयॉर्क. दुनियाभर में आतंक मचाने वाला कोरोना वायरस कैसे काबू में आएगा? इसके लिए भारत, अमेरिका, चीन, जापान, रशिया से लेकर हर कोई बड़ा देश अपने-अपने स्तर पर प्रयास कर रहा है. हर कोई उम्मीद कर रहा है कि किसी भी तरह से एकबारगी तो इसको कंट्रोल करने की दवा तैयार कर ली जाए या वैक्सीनेशन बना लिया जाए. इस खबर में हम दो राहतभरी बातें आपके साथ शेयर करेंगे. एक चीन के वुहान में वैज्ञानिकों  द्वारा किए जा रहे प्रयोग की और दूसरा अमेरिका के एक साइंटिस्ट के उस दावे की जिसमें उन्होंने कोरोना का इलाज खोजने का दावा किया है. यह दोनों ही खबरें लोगों को कोरोना संकट के इस दौर में आशा की एक नई किरण नज़र आ रही है. सबसे पहले बात अमेरिका की करें तो एक बड़ा दावा अमेरिकी साइंटिस्ट डॉ. जैकब ग्लानविले ने किया है. यह वही साइंटिस्ट हैं जो नेटफ्लिक्स डॉक्यूमेंट्री पैन्डेमिक से चर्चा में आए थे. डॉ. जै...

यह हैं दुनिया के 10 (TEN) सबसे बडे पैसेंजर एयर क्राफ्ट

सिंगापुर/ बेंगलुरु. स्ट्रैटोलॉन्च क्या आपने यह नाम सुना है? नहीं तो हम आपको बता दें यह है दुनिया का सबसे बड़ा विमान जिसने सबसे पहली उड़ान 2019 में कैलिफोर्निया में भरी थी. करीब ढाई घंटे तक मोजावे रेगिस्तान के ऊपर इसका सफल परीक्षण हुआ. यह इतना बडा है कि इसको उडाने के लिए बोइंग-747 के छह इंजन का इस्तेमाल किया जाता है. विमान के पंख का फैलाव एक फुटबॉल मैदान से भी ज्यादा है. इस विमान का निर्माण सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर निर्माता कंपनियों में से एक माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक पॉल एलन के विजन पर हुआ, और 2011 में इसका निर्माण शुरु हुआ. स्ट्रेटोलॉन्च ने डैनों की चौड़ाई को आधार बनाकर इसे दुनिया का सबसे बड़ा विमान बताया. 385 फीट लंबे इस विमान के पंख किसी फुटबॉल मैदान के जितने बड़े हैं, तो 17 हजार फीट की ऊंचाई तक यह विमान उडान भरने में सक्षम है. इस विमान के निर्माण का मकसद सैटेलाइट के लॉन्च पैड के रूप में क...

ऐसी है डोनाल्ड ट्रंप की 'द बीस्ट' कार, यह 10 फैक्ट जानेंगे तो होश फाख्ता हो जाएंगे

नई दिल्ली/ वॉशिंगटन. दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प अपनी भारत यात्रा को लेकर जितना खुद चर्चा में हैं उतनी ही चर्चा में है उनकी लिमोजीन कंपनी की सबसे शक्तिशाली कार 'द बीस्ट'! करीब 10.50 करोड़ की यह कार दुश्मनों के मनसूबों पर पानी फैरने में दुनिया की सबसे सुरक्षित कारों में शुमार है और इसका वजन करीब 9 हजार किलो है. चूंकि अमेरिकी राष्ट्रपति दुनिया का सबसे शक्तिशाली राजनेता है तो उन्हे कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के खतरे भी होते हैं. इसके अलावा कई आतंकी संगठनों और दुश्मन देशों के निशाने पर भी यह रहते हैं ऐसे में 'द बीस्ट' को इस तरह से तैयार किया गया है कि ये किसी भी हमले को बेअसर कर सके. गोली तो दूर की बात बम भी कुछ ना बिगाड़ सके. यह वही कार है जिसे जून-2018 में सिंगापुर के सैंटोसा द्वीप में स्थित कैपेला होटल में नॉर्थ कोरिया के सर्वोच्च ...

एक सरकारी स्कूल में पढ़ा हिंदी मीडियम युवा बना देश का टॉप IAS, पढें कौन है यह शख्स?

नई दिल्ली. बेटर इंडिया ने देश के टॉप टेन IAS की लिस्ट जारी की है. लिस्ट में असम कैडर के IAS अधिकारी राज यादव, तमिलनाडु कैडर के संदीप नंदूरी, छत्तीसगढ़ कैडर के अविनाश शरण, मध्यप्रदेश कैडर के आशीष सिंह के साथ राजस्थान कैडर के दो IAS अधिकारियों के नाम भी शामिल हैं. राजस्थान कैडर के IAS डॉ. जितेंद्र कुमार सोनी और अतहर आमिर खान का नाम भी इस लिस्ट में शामिल किया गया है. बेहतर काम, जवाबदेह और जिम्मेदार प्रशासन, नवाचार के साथ वंचितों को सरकारी योजनाओं का लाभ दिलवाने और सुशासन देने वाले अधिकारियों के नाम इस लिस्ट में शामिल किए गए हैं. इस लिस्ट में शामिल डॉ. जितेन्द्र सोनी के नाम का जिक्र खास तौर पर इसलिए किया जाना महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि अभावों में एक सरकारी और हिंदी मीडियम स्कूल में पले बडे होने के बावजूद सोनी ने देश और दुनिया में अपनी अलग पहचान स्थापित की. मुश्किलें भी बहुत आईं लेकिन डॉ. सो...

नाले के गंदे पानी से बनाई बीयर, बाजार में आते ही 'आउट ऑफ स्टॉक'

स्टॉकहोम (स्वीडन). जरा सोचो जब आपको पता चले की जिस नाले के गंदे और बदबूदार पानी से आप कोसों दूर भागते हैं, उसी पानी से बनी हुई बीयर आपने गटकी है, तो आप पर क्या बीतेगी? आपको यह अपने जीवन का सबसे बड़ा अपराध लगने लगेगा, खुद को माफ नहीं कर पाओगे, खासकर उस दोस्त या दुकानदार को जिसने आपको ऐसी बीयर ऑफर की और बडे ही चाव से आपने उसको पिया. लेकिन घबराने की जरुरत नहीं है. असल जिंदगी में अब ऐसी ही बीयर बाजार में आ चुकी है. और इतनी पॉपुलर हुई है कि मार्केट में आते ही 'आउट ऑफ स्टॉक' भी हो गई. दरअसल इस बीयर को बनाने का मकसद दुनियाभर में पीने की पानी कमी को रोकने, जल संरक्षण को बढावा देने और उसके रिसाइकलिंग पर जोर देने के लिए यह तरीका खोजा गया. स्वीडन में नाले के गंदे पानी को रिसाइकल करके ऐसी ही बीयर तैयार की गई है. इस बीयर को दुनिया की मशहूर बीयर कंपनी कार्ल्सबर्ग, न्यू कार्नेगी ब्रुअरी और IVL...

पहली नेत्रहीन महिला IAS प्रांजल पाटिल की सफलता की कहानी, तिरुवंतपुरम में मिली पोस्टिंग

तिरुवनंतपुरम (केरल). जिंदगी जीने का तरीका उन्हीं लोगों को आया है, जिन्होंने अपनी जिंदगी में हर जगह धक्का खाया है, जमाया है सर्द रातों में खुद को, तपती धुप में खुद को तपाया है, वही हुए हैं सफल जिंदगी में, उन्होंने ने ही इतिहास रचाया है. यह पक्तियां समर्पित है भारत की उस महान बेटी को जो देख नहीं पाती लेकिन अब देश का शासन चलाने में अपनी भूमिका निभाएगी. सफलता की यह कहानी है भारत की पहली नेत्रहीन महिला आईएएस अधिकारी प्रांजल पाटिल की. जिन्होने केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम में बतौर आईएएस उप-जिलाधिकारी का पद संभाल लिया है. प्रांजल के दफ्तर पहुंचते ही लोग कुछ उन्हें शंका की नजरों से देख रहे थे तो कुछ उनकी सफलता को सलाम करते नहीं थक रहे थे. और ऐसा हो भी क्यों नहीं आखिर एक नेत्रहीन महिला ने आईएएस की कुर्सी जो संभाल ली है. प्रांजल महाराष्ट्र के उल्हासनगर से ताल्लुक रखती हैं...