Technology

पबजी समेत चीन के 118 और मोबाइल ऐप्‍स भारत में बैन

नई दिल्ली. सरकार की बड़ी कार्रवाई, पबजी समेत चीन के 118 और मोबाइल ऐप्‍स भारत में बैन. भारत-चीन सीमा पर चल रहे विवाद के बीच भारत सरकार ने यह फैसला लिया है. सरकार की तरफ से इससे पहले भी चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाए गए थे. सरकार ने हाल ही में पहले 59 ऐप को बैन किया था जिसमें लोकप्रिय ऐप TikTok भी शामिल था. बाद में सरकार ने 47 और ऐप को बैन किया था. आज एक बार फिर से सरकार की तरफ से PUBG समेत 118 ऐप को बैन किया गया है.   PUBG app? राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर जिस पॉप्युलर Battle Royale टाइटल गेम PUBG Mobile एप्प को बैन किया है वो भारत में 175 मिलियन डाउलोड के साथ देश में सबसे ज्यादा डाउनलोड किया जाने वाला गेमिंग ऐप है. भारत में PUBG मोबाइल को इस साल के पहले हॉफ तक कुल 175 मिलियन बार इंस्टॉल किया गया. डाटा एनालिटिक्स फर्म Senser Tower के मुताबिक PUBG मोबाइल वर्ल्ड ...

भारत में आने वाली है कोरोना वैक्सीन! कितनी होगी कीमत, अभी किस स्टेज पर है?

नई दिल्ली. भारत में अब उम्मीदों भरे दिन लगातार सामने नजर आने लगे हैं. भारतीय वैज्ञानिक जिस तरह से दिन रात कोरोना वैक्सीन को तैयार करने में जुटे हैं उससे लगता है भारत दुनिया से पीछे नहीं रहने वाला है. बस अब कुछ और वक्त का इंतजार करना है यह वक्त है 2020 का अंत या फिर 2021 की शुरुआत. भारतीय बाजार में किसी भी सूरत में 2021 की शुरुआत में एक स्वीकृत टीका उपलब्ध हो जाने की उम्मीद बढ़ गई है. यह जानकारी शीर्ष वॉल स्ट्रीट रिसर्च और ब्रोकरेज फर्म, बर्नस्टीन रिसर्च की रिपोर्ट से मिली है. रिपोर्ट के मुताबिक वैश्विक स्तर पर चार संभावित टीके हैं, जिन्हें 2020 के अंत तक या 2021 की शुरुआत में स्वीकृति मिल जाने के अनुमान हैं. इनमें से दो टीके ऐसे हैं जिनमें भारत की भागीदारी है. एस्ट्राजेनेका व ऑक्सफोर्ड का वायरल वेक्टर टीका और नोवावैक्स का प्रोटीन सब यूनिट टीका वो दो टीके हैं जिनमें भारत ने भागीदारी है...

भाजपा नेता की प्रिंटिंग प्रेस से मिली NCERT की 35 करोड़ की डुप्लीकेट किताबें, नेता का भतीजा था मास्टरमाइंड

यूपी. यूपी एसटीएफ और मेरठ पुलिस के ज्वाइंट ऑपरेशन में 35 करोड़ की डुप्लीकेट किताबें पकड़ी गई हैं. मेरठ में एनसीईआरटी की डुप्लीकेट किताबें छापने का यह पर्दाफाश इसलिए चर्चा में नहीं है कि डुप्लीकेट किताबें पकड़ी गई है चर्चा इसलिए है कि मामले का आरोपी भाजपा के नेता का भतीजा है और खुद नेेताजी की यह प्रिंटिंग प्रेस बताई जा रही है. छापे में छह प्रिंटिंग मशीनें मिली हैं और दर्जनभर लोगों को हिरासत में लिया गया है. बताया गया है कि एनसीईआरटी की डुप्लीकेट किताबें छापने का मास्टरमाइंड सचिन गुप्ता है, जो भाजपा नेता संजीव गुप्ता का भतीजा है. सचिन और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ परतापुर थाने में एसटीएफ सब इंस्पेक्टर ने मुकदमा दर्ज कराया है. और इस किताब कांड में कौन-कौन शामिल हैं पता लगाया जा रहा है. एसटीएफ डीएसपी ब्रजेश कुमार सिंह के मुताबिक परतापुर के अछरौंडा में गोदाम और मोहकमपुर की प्रिंटिं...

अब इस कंपनी ने भारत में लॉन्च की कोरोना की दवा, 42 शहरों में होगी फ्री होम डिलीवरी

हैदराबाद. दुनिया के साथ भारत में भी कोरोनावायरस ने लोगों की नींद उड़ा कर रखी है. इस महामारी ने अकाल कई लोगों को मौत की नींद सुला दिया. अब इस महामारी से निपटने के लिए वैक्सीन का इंतजार पूरी दुनिया को है. लेकिन इससे पहले इस बीमारी को कंट्रोल करने का हर संभव प्रयास दवा बाजार में मौजूद कंपनियां कर रही हैं. देश में कोरोना के इलाज और नियंत्रण के लिए कई तरह की दवाइयों के इस्तेमाल को मंजूरी मिली हुई है. इसी कड़ी में अब देश की जानी-मानी फार्मा कंपनी डॉ. रेड्डी लेबोरेट्रीज ने भी कोरोना की 200 MG टैबलेट लॉन्च की है. आपको बताते चलें कि कोरोना के इलाज में कारगर मानी जा रही दवाई फेविपिराविर (Favipiravir) को अलग-अलग कंपनियां अलग-अलग नामों से बाजार में लॉन्च कर रही हैं. अब डॉ. रेड्डी लेबोरेट्रीज ने इसके जेनेरिक वर्जन को पेश करते हुए इसका नाम 'एविगन' (Avigan) रखा है. ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया से ...

ऑनलाइन पढाई के साइड इफैक्ट्स, बच्चे पेड़ पर चढ़कर पढने को मजबूर. देखें बुलंद भारत की बुलंद तस्वीर

महाराष्ट्र. यह तस्वीरें हैं महाराष्ट्र जिले के धड़गांव की. जहां इन दिनों स्कूली बच्चे कभी पेड़ पर बैठे दिखाई देते हैं तो कभी किसी पहाड़ी की चोटी पर. सुनने और देखने में यह थोड़ा अजीब जरुर लगे लेकिन जनाब यही बुलंद भारत की बुलंद तस्वीर है. जो ऑनलाइन शिक्षा को बढावा देने की हकीकत हमारे सामने रख रही है. दरअसल यह तस्वीर स्कूल भवन की कमी या किसी बाढ़ की वजह से नहीं है बल्कि खराब मोबाइल नेटवर्क के कारण सामने आई है. कोरोना के चलते ज्यादातर राज्यों में 31 अगस्त तक स्कूल बंद हैं, पर पढाई जारी है. वो भी ऑनलाइन पढाई. जिसके चलते स्टूडेंट्स को ऑनलाइन स्टडी मैटेरियल भेजा जाता है और ऑनलाइन ही पढाया जाता है. लेकिन नेटवर्क न होने से छात्र पढ़ाई नहीं कर पाते. पर रोज-रोज इस समस्या से कैसे बचा जाए, ऐसे में बच्चे अपनी डिजिटल क्लास का नेटवर्क पाने के लिए कभी पेड़ पर चढकर शिक्षा ग्रहण करते हैं तो कभी ऊंची पहाड़...

अब यूनिक ID में होगी आपके स्वास्थ्य की कुंडली, स्वाधीनता दिवस पर डिजिटल हेल्थ मिशन लॉन्च, जानें इसकी 10 बड़ी बातें

नई दिल्ली. भारत में स्वास्थ्य सुधार की दिशा में निए नए प्रयास किए जा रहे हैं. आम आदमी को बेहतर स्वास्थ्य देने के लिए सरकार और गैर सरकारी स्तर पर कई प्रयास किए जा रहे हैं. ऐसे में क्योंकि अब युग डिजिटल क्रांति का है तो भारत सरकार ने नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन लॉन्च कर दिया है. इस योजना में हर भारतवासी को एक हेल्थ आईडी जारी की जाएगी ओर इस आईडी में हर नागरिक के स्वास्थ्य का पूरा लेखा-जोखा होगा. यानी आपके स्वास्थ्य की कुंडली डिजिटल हो जाएगी. यह भी पढ़ें: रूस ने कर दिया यह गजब कमाल! इसमें प्रत्येक व्यक्ति के स्वास्थ्य, बीमारी, डॉक्टर का लेखा-जोखा डिजिटलाइज्ड होगा जो पूरी तरह से एक एप और वेबसाइट के मार्फत संचालित होगा. पर आपकी निजता का ध्यान रखते हुए ये रिकॉर्ड्स आप तक की सीमित रहेंगे. डाटा प्राइवेसी का पूरा ध्यान रखा जाएगा. बिना आपकी अनुमति के कोई अन्य व्यक्ति या डॉक्टर आपके रिकॉर्ड की जानकार...

इंतजार खत्म, रूस ने बनाया पहला कोरोना वैक्सीन, राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की बेटी को लगा टीका

मास्को. जिस कोरोना वायरस के खात्मे के लिए पूरी दुनिया रात दिन एक किए हुए है, और पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है. इन सबके बीच सबसे बड़ी राहत की खबर है कि रूस ने पहली कोरोना वैक्सीन तैयार कर ली है. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को इसका ऐलान किया. इसके मार्फत COVID-19 के खिलाफ स्थाई इम्यूनिटी विकसित की जा सकती है. जो कोरोना को पस्त करने और धूल चटाने में सक्षम है. रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करते हुए कहा कि 'आज सुबह दुनिया का पहला कोरोना वायरस का टीका तैयार कर लिया गया है. जिसका इस्तेमाल उनकी बेटी पर भी किया जा चुका है.' पुतिन के मुताबिक कि उनकी बेटी ने भी इसका टीका लिया है, पहले उसका बुखार टीके के बाद बढ़ा लेकिन बाद में काबू में आने लगा. इसके अलावा उन्होंने दावा किया कि कुछ लोगों को टीका लगने के बाद कोरोना का कोई लक्षण नहीं ह...

भारत ने लगाई 101 रक्षा उपकरणों की खरीद पर रोक, अब खुद बनाएगा आर्टिलरी गन, असॉल्ट राइफल्स, ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट

नई दिल्ली(राकेश दाधीच). भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एक बड़ी महत्वपूर्ण घोषणा करते हुए 101 से ज्यादा रक्षा उपकरणों की खरीद पर रोक लगा दी. साथ ही ऐलान किया कि अब आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत इनका निर्माण देश में ही किया जाएगा. यानी रक्षा उत्पादन के स्वदेशीकरण को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने कमर कस ली है. इन 101 वस्तुओं में सिर्फ सामान्य उपकरण या वस्तुएं ही शामिल नहीं हैं बल्कि उच्च तकनीक वाले हथियार सिस्टम भी शामिल हैं, जैसे आर्टिलरी गन, असॉल्ट राइफल्स, ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट, एलसीएच रडार आदि आइटम. यह वो उपकरण हैं जो हमारी रक्षा सेवाओं की जरूरतों को पूरा करने में अहम योगदान देते हैं. भारत सरकार के इस निर्णय से भारतीय रक्षा उद्योग को खुद के डिजाइन और विकास क्षमताओं का उपयोग करके या फिर डीआरडीओ द्वारा विकसित तकनीकों को अपनाकर सशस्त्र बलों की आवश्यकताओं को पूरा करने...

इंतजार खत्म! रूस में अगले हफ्ते रजिस्टर होगी दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन तो भारत में मिलेगी 225 रुपये में

मास्को/नई दिल्ली. देश और दुनिया के लिए राहत की बड़ी खबर है. विश्वभर में कोरोना के कोहराम से मचे हाहाकार पर जल्द ही शिकंजा कसने वाला है. कोरोना को मात देने वो जादुई दवा अब तैयार हो चुकी है जिसका इंतजार दुनियाभर को था. मौत की चित्कारों और हाहाकार के बीच लोगों की प्रार्थना का ही असर है कि अब कोरोना वायरस वैक्‍सीन को लेकर दुनिया का इंतजार खत्‍म होता दिख रहा है. रूस के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मिखाइल मुराश्‍को ने दावा किया है कि 'रूस की वैक्‍सीन ट्रायल में सफल रही है. रूस रक्षा मंत्रालय और गमलेया नैशनल सेंटर फॉर रिसर्च द्वारा तैयार वैक्‍सीन के क्लिनिकल ट्रायल में 100 फीसदी सफल परिणाम मिले हैं. अब अक्‍टूबर में रूस में बडे पैमाने पर लोगों के टीकाकरण काम काम शुरू होगा. वैक्‍सीन को लगाने में आने वाला पूरा खर्च रूस की सरकार उठाएगी.'  इतना ही नहीं...

अंबाला एयरबेस पर राफेल विमानों की 'हैप्पी लैंडिंग', देश की सीमाओं में आते ही हुआ जबरदस्त स्वागत

नई दिल्ली. भारतीय वायुसेना के बेडे में अब राफेल का जलवा देखने को मिलेगा. अंबाला में भारतीय वायु सेना के एयरबेस पर पांचों राफेल विमान की हैप्पी लैंडिंग हुई. ये विमान फ्रांस से 7 हजार किलोमीटर की दूरी तय करके भारत पहुंचे. भारत ने वायुसेना के लिये 36 राफेल विमान खरीदने के लिये चार साल पहले फ्रांस के साथ 59 हजार करोड़ रुपये का करार किया था. पांच राफेल विमानों ने सोमवार को फ्रांसीसी शहर बोडरे में मेरिनैक एयर बेस से उड़ान भरी थी. बेड़े में तीन सिंगल सीटर और दो डबल सीट वाले विमान शामिल हैं. इन्हें भारतीय वायुसेना में इसके 17वें स्क्वाड्रन के हिस्से के रूप में शामिल किया जा रहा है. अंबाला एयर बेस पर 'गोल्डन एरो' के रूप में भी जाना जाता है. पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जारी गतिरोध के बीच राफेल मौजूदा परिदृश्य में भारत के लिए एक गेम चेंजर होगा. कहा जा रहा है कि यह भारत की वायुशक्ति को कई ...