Technology

राजस्थान में शिक्षकों की ट्रांसफर लिस्ट इन लिंक पर होगी उपलब्ध

जयपुर. राजस्थान में शिक्षकों के तबादले की कवायद तेज हो गई है. लेकिन सबसे बड़ी समस्या यह है कि आपके तबादले के बाद में संबंधित विभाग के हैं तो कहां से पता चलेगा कि आपका तबादला हुआ या नहीं हुआ? ऐसे में आप नीचे दिए गए अपने पद के आधार पर लिंक पर क्लिक करें और तुरंत अपनी तबादला लिस्ट को देखें. ट्रांसफर लिस्ट के लिए यहां क्लिक करें  इसके अतिरिक्त निम्न लिंक्स पर भी उपलब्ध होगी  प्रिंसिपल & HM ट्रांसफर लिस्ट के लिए यहां क्लिक करें. लेक्चरर ट्रांसफर लिस्ट के लिए यहां क्लिक करें सीनियर टीचर ट्रांसफर लिस्ट के लिए यहां क्लिक करें...

राजस्थान में REET परीक्षा में लेवल वन में केवल BSTC के स्टूडेंट्स ही होंगे शामिल

राजस्थान में REET परीक्षा में लेवल वन में केवल BSTC के स्टूडेंट्स ही होंगे शामिल जयपुर. राजस्थान में रीट परीक्षा को लेकर बड़ी खबर है. वर्ष 2021 में आयोजित होने वाली रीट परीक्षा के लेवल वन में अब केवल बीएसटीसी (BSTC) के स्टूडेंट्स ही शामिल हो पाएंगे. इस मामले में कुछ दिनों पहले ही बीएसटीसी पास हजारों स्टूडेंट्स ने बड़ा आंदोलन किया था. उसके बाद शिक्षा विभाग ने उच्च स्तर पर मंथन किया और यह निर्णय किया. राजस्थान के शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह जानकारी दी. डोटासरा ने बताया कि इस बार विभिन्न वर्गों में छूट भी दी गयी है. इस बार 90 प्रतिशत रीट और 10 प्रतिशत स्नातक के नंबरों का फार्मूला लागू रहेगा. इसके अलावा रीट के सिलेबस में इस बार राजस्थान के सामान्य ज्ञान को भी शामिल किया जा रहा  है. रीट के आवेदन 11 जनवरी से 8 फरवरी तक लिये जा सकते हैं. &nbs...

कोरोना के न्यू स्ट्रेन पर भारत को मिली बड़ी कामयाबी, ऐसा करने वाला बना दुनिया का पहला देश

नई दिल्ली. कोरोना महामारी के नए स्ट्रेन को लेकर बड़ी खबर आई है. भारत ने ब्रिटेन से आए वायरस के नए स्ट्रेन की सफलतापूर्वक पहचान कर ली है. और इसी के साथ ऐसा करने वाला भारत दुनिया का पहला देश भी बन गया है. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने ट्वीट कर बताया कि भारत ने तेजी से वायरल हो रहे न्यू स्ट्रेन के वायरल तनाव (SARS-CoV-2 के यूके-वैरिएंट) को सफलतापूर्वक पहचान लिया है. और भारत ने यूके म्यूटेंट स्ट्रेन को आइसोलेट कर लिया है. इस आइसोलेशन के जरिए बनाए गए कोरोना वायरस वैक्सीन पर न्यू म्यूटेंट स्ट्रेन के प्रभाव की जांच करने में मदद मिलेगी. साथ ही यह भी चेक किया जा सकेगा कि इस स्ट्रेन पर कोरोना वैक्सीन का असर होगा या नहीं....

कोरोना के खात्मे के लिए भारत में ऑक्सफोर्ड वैक्सीन 'कोविशील्ड' के इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी, औपचारिक ऐलान बाकी

नई दिल्ली. कोरोना के खात्मे के लिए दुनियाभर ने कमर कस ली है. इसी कड़ी में भारत भी लगातार प्रयासरत है. दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन उत्पादक कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट (Serum Institute Of India) की वैक्सीन कोविशील्ड (Covishield) को भारत में इमरजेंसी यूज की अनुमति दी मिल गई है.  हालांकि अभी इसका औपचारिक ऐलान बाकी है.  केंद्रीय औषध मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की कोविड-19 पर एक विशेषज्ञ समिति ऑक्सफोर्ड के कोरोना वायरस रोधी टीके कोविशील्ड के आपात इस्तेमाल की मंजूरी देने के लिए सिफारिश करने की तैयारी में है. ब्रिटेन में इस वैक्सीन को इमरजेंसी यूज की अनुमति मिलने के बाद माना जा रहा था कि भारत में भी इसकी अनुमति दी जा सकती है. सीरम इंस्टिट्यूट ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन में पार्टनर है और देश में इसे वैक्सीन को कोविशील्ड के नाम से बेचेगी....

10वीं व 12वीं के लिए CBSE बोर्ड परीक्षा 4 मई 2021 से

नई दिल्ली. 10वीं व 12वीं के लिए सीबीएसई बोर्ड परीक्षा 4 मई 2021 से शुरू होगी। ये परीक्षाएं 10 जून 2021 तक पूरी की जाएंगी। परिणाम की घोषणा 15 जुलाई 2021 तक की जाएगी। प्रैक्टिकल परीक्षाएं 1 मार्च 2021 से शुरू की जाएंगी। केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक (Education Minister Nishank) ने अपने ट्विटर हैंडल पर सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं की तारीख घोषित की है।...

राजस्थान में 31,000 शिक्षकों की होगी, REET परीक्षा की तारीख घोषित

जयपुर.राजस्थान सरकार ने रीट परीक्षा की तिथि की घोषणा कर दी है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को अपनी सरकार के दो साल पूरे होने के मौके पर परीक्षा की तारीखों का ऐलान किया. गहलोत ने घोषणा करते हुए कहा कि रीट की परीक्षा 25 अप्रैल 2021 को आयोजित होगी. रीट परीक्षा के जरिए राज्य में 31000 शिक्षकों की भर्ती होगी. बहुत जल्द रीट का नोटिफिकेशन जारी कर दिया जाएगा. उधर राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने भी मुख्यमंत्री की इस घोषणा की ट्विटर के जरिए जानकारी दी....

ISRO: टेलीकम्युनिकेशन सेवाओं में सुधार होगा, कम्युनिकेशन सैटेलाइट CMS-01 ऑर्बिट में सफलतापूर्वक इंजेक्ट

चेन्नई. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने देश की 42वीं कम्युनिकेशन सैटेलाइट CMS-01 को गुरुवार को सफलतापूर्वक लॉन्च किया. कम्युनिकेशन सैटेलाइट CMS-01 की उम्र करीब सात साल होगी. यह कम्युनिकेशन सैटेलाइट फ्रीक्वेंसी स्पेक्ट्रम के एक्सटेंडेड सी बैंड में सेवा उपलब्ध कराएगा, जिसके दायरे में भारत की मुख्य भूमि, अंडमान निकोबार और लक्षद्वीप द्वीपसमूह होंगे. बता दें कि इससे टेलीकम्युनिकेशन सेवाओं में खासतौर पर सुधार होगा. इसकी मदद से टीवी चैनलों की पिक्चर गुणवत्ता सुधरने के साथ ही सरकार को टेली-एजुकेशन, टेली-मेडिसिन को आगे बढ़ाने और आपदा प्रबंधन के दौरान मदद मिलेगी.  ...

कोरोना से डरना नहीं, सावधान रहना है. जानें कोरोना से मुकाबले के लिए A टू Z जानकारी

जयपुर. इस वक्त दुनिया के लिए सबसे बड़ी चिंता बना हुआ है कोरोना. लेकिन इससे किस तरह से बचा जाए? हो जाए तो क्या करें? कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई उसके बाद भी क्या ध्यान रखा जाए? और कोरोना के दौरान क्या डाइट लें? कैसे निपटा जाए? इन बातों को लेकर धर्म सज्जन चैरिटेबल ट्रस्ट की ओर से एक्सपर्ट चिकित्सकों की राय से एक बुकलेट जारी की गई है. जो आपको ग्राफिक्स के जरिए इन सब बातों की जानकारी देने के लिए अहम है. आइए आप भी जानें कोरोना के बारे में ए टू जेड जानकारी....

इंतज़ार खत्म! रूस में अगले सप्ताह से लगाई जाएगी कोरोना वैक्सीन

जयपुर. कोरोना संकट के बीच रूस में अगले सप्ताह से कोरोना वैक्सीनेशन का कार्य शुरू हो जाएगा. राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने बड़े पैमाने पर कोविड-19 के खिलाफ सामूहिक तौर पर 'स्पूतनिक वी' वैक्सीन के स्वैच्छिक टीकाकरण अभियान को शुरू करने के आदेश दिए हैं. रूस अगले कुछ दिनों के भीतर 2 मिलियन कोरोना वैक्सीन का उत्पादन करेगा. बता दें कि रूस ने पिछले महीने कहा था कि उसका 'स्पूतनिक वी' वैक्सीन ट्रायल के दौरान 92% कारगर पाया गया है.  इस कड़ी में रूस में बड़े पैमाने पर टीकाकरण के तहत सबसे पहले शिक्षकों और स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े लोगों को वैक्सीन दी जाएगी....

सावधान! कोरोना वायरस को घातक बनाने के लिए प्रदूषण मुख्य घटक, एक अध्ययन में दावा 

 जयपुर. देश और दुनिया में तबाही मचाने वाले कोरोना महामारी के लिए केवल यह वायरस ही नहीं बल्कि प्रदूषण भी मुख्य घटक है जिसने इस साधारण से वायरस को जानलेवा स्तर तक पहुंचाया है. यह दावा किया है जयपुर के जाने माने होम्योपेथी चिकित्सक डॉ. अजय यादव ने.  डॉ. अजय यादव का दावा है कि उन्होने करीब तीन हजार कोरोना संक्रमित लोगों पर एक अध्ययन के बाद य​ह निष्कर्ष निकाला है. अपनी पुस्तक  "why to blame only virus for pandemic?" में इन्होंने ये बताने का प्रयास किया है कि केवल वायरस ही इस महामारी के लिए दोषी नहीं ठहराया जा सकता. "प्रदूषण" वो अहम कारक है जो कि एक साधारण से वायरस को जानलेवा स्तर तक घातक बनाने के लिए उत्तरदायी है. प्रदूषण की जनक क्लोरीन, ब्रोमीन, सल्फर डाई ऑक्साइड और नाइट्रोजन डाई ऑक्साइड, ओजोन जैसी विषैली गैसें इस वायरस के कहर को बढाने में काफी ...